नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। अगर आप क्रेडिट एवं डेबिट कार्ड यूजर हैं तो आपको सावधान होने की जरूरत है। ऐसा इसलिए क्योंकि अगर आपने आज भी अपना पुराना एटीएम और डेबिट कार्ड बैंक से नहीं बदलवाया है तो कल से वह ब्लॉक भी हो सकता है। जानकारी के लिए बता दें कि ग्राहकों के लिए 31 दिसंबर 2018 तक अपने मैग्नेटिक स्ट्राइप डेबिट या क्रेडिट कार्ड को बदलवाकर उनकी जगह ईएमवी चिप बेस्ड कार्ड लेना जरूरी था। रिजर्व बैंक ने इसके लिए बैंकों को स्पष्ट दिशानिर्देश भी दिए थे।

दरअसल ईएमवी चिप कार्ड को डेबिट एवं क्रेडिट कार्ड से होने वाले फ्रॉड को रोकने के लिए पेश किया गया है। चूंकि मैग्नेटिक स्ट्रिप कार्ड कार्ड-स्किमिंग, कार्ड क्लोनिंग इत्यादि जैसी धोखाधड़ी की वजह बन रहा था इसलिए ईएमवी चिप बेस्ड कार्ड को अपनाया गया है। जानकारी के मुताबिक नया चिप वाला एटीएम कार्ड फ्रॉड से बचाने में कारगर है। बैंकों ने अपने ग्राहकों को ऐसा करने को कहा था और बैंक बिना किसी शुल्क के इस कार्ड को बदल रहे थे।

क्या था आरबीआई का आदेश?

27 अगस्त 2015 को रिजर्व बैंक की ओर से जारी आदेश के मुताबिक सभी बैंकों को अपने मैग्नेटिक स्ट्रिप वाले डेबिट और क्रेडिट कार्ड को ईएमवी (यूरोप, मास्टरकार्ड और वीजा) आधारित चिप कार्ड में बदलवाना होगा। इसकी अंतिम तारीख 31 दिसंबर 2018 है।

समझिए आखिर क्यों लिया गया मैग्नेटिक स्ट्राइप वाले कार्ड को बंद करने का फैसला?

पुराने एटीएम और डेबिट कार्ड को अगर गौर से देखें तो पाएंगे कि उसके पीछे एक एक काली पट्टी होती है। यही काली पट्टी मैग्नेटिक स्ट्रिप है, जिसमें आपके खाते की पूरी जानकारी दर्ज होती है। आरबीआई का मानना है कि मैग्नेटिक स्ट्रिप कार्ड अब पुरानी टेक्नोलॉजी हो चुकी है और यह पूरी तरह से सुरक्षित नहीं हैं। लिहाजा इसे बंद करने का फैसला किया गया है।

कार्ड मैग्नेटिक स्ट्रिप है या ईएमवी चिप वाला कैसे जानें?

अगर आपको मालूम करना है कि आपका कार्ड मैगस्ट्रिप कार्ड है या नहीं तो इसके लिए आप अपने कार्ड पर बाईं ओर गौर करें, अगर वहां कोई चिप नहीं लगी है तो वह मैगस्ट्रिप कार्ड है। वहीं अगर आपके कार्ड के ऊपर बाईं ओर कोई चिप लगी है तो यह कार्ड EMV चिप डेबिट कार्ड है।

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप