नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। इस साल अगस्त के मुकाबले सितंबर में आम लोगों को खुदरा महंगाई के साथ-साथ थोक महंगाई से भी राहत मिली। सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक सितंबर, 2021 में सालाना आधार पर थोक महंगाई दर 10.66 फीसद पर रही, जो अगस्त में 11.39 फीसद पर रही थी। यह आंकड़ा अगस्त के मुकाबले सितंबर में थोक महंगाई में नरमी को दिखाता है। हालांकि, सितंबर की थोक महंगाई दर का आंकड़ा यह भी दिखाता है कि थोक मुद्रास्फीति पिछले छह महीने में लगातार दोहरे अंकों में रही। सितंबर, 2020 में थोक महंगाई दर 1.32 फीसद पर रही थी।

अगस्त के मुकाबले सितंबर में इन सेक्टर्स में रही नरमी

सितंबर महीने में अगस्त के मुकाबले ईंधन और बिजली की कीमतों में नरमी देखी गई। हालांकि, सालाना आधार पर यह दर काफी ऊंची रही। सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक सितंबर में ईंधन और बिजली की कीमतों में सालाना आधार पर 24.81 फीसद की वृद्धि देखने को मिली। अगस्त में यह आंकड़ा 26.09 फीसद का था। दूसरी ओर, मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्ट्स की कीमतों में 11.41 फीसद की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। अगस्त, 2021 में यह 11.39 फीसद पर थी।

हालांकि, खाने-पीने के सामान की महंगाई दर में नरमी देखी गई। सालाना आधार पर खाद्य वस्तुओं की थोक मुद्रास्फीति 1.14 फीसद पर रही, जो अगस्त में 3.43 फीसद पर रही थी।

खुदरा महंगाई के मोर्चे पर भी मिली मोहलत

सितंबर महीने में खुदरा महंगाई दर भारी कमी के साथ 4.35 फीसद पर आ गई, जो अगस्त, 2021 में 5.30 फीसद पर रही थी। खाने-पीने के सामान के दाम में गिरावट से सितंबर में यह राहत मिली। सितंबर में खाद्य वस्तुओं की खुदरा महंगाई दर घटकर 0.68 फीसद पर आ गई, जो अगस्त 2021 में 3.11 फीसद पर रही थी। सितंबर, 2021 में खुदरा मुद्रास्फीति में गिरावट अहम रही क्योंकि सितंबर, 2020 में यह 7.27 फीसद के स्तर पर पहुंच गई थी। इस तरह देखा जाए तो सितंबर में लगातार तीसरे महीने खुदरा महंगाई दर छह फीसद के नीचे रही। यह जुलाई, 2021 में 5.59 फीसद पर रही थी। वहीं अगस्त 2021 में खुदरा महंगाई दर 5.30 फीसद पर रही थी।

Edited By: Ankit Kumar