नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। अब WhatsApp के जरिए भी Jiomart से ग्रॉसरी का सामान मंगाया जा सकता है। भारतीय अब एक नए "टैप और चैट" विकल्प से मुकेश अंबानी के JioMart से किराने का सामान ऑर्डर करने के लिए WhatsApp का उपयोग कर सकते हैं। इसके पीदे Reliance Industries का मकसद Amazon.com और Walmart Inc. के स्वामित्व वाली Flipkart.com के वर्चस्व को चुनौती देना है।

90 सेकंड के ट्यूटोरियल और कैटलॉग के साथ WhatsApp शॉपिंग आमंत्रण पाने वाले JioMart यूजर के मुताबिक, डिलीवरी मुफ्त है और कोई न्यूनतम ऑर्डर मूल्य नहीं है। फल, सब्जियां, अनाज, टूथपेस्ट और पनीर पनीर और चने का आटा जैसे खाना पकाने के स्टेपल उपलब्ध हैं। ग्राहक ऐप के भीतर अपनी खरीदारी की टोकरी भर सकते हैं और ऑर्डर प्राप्त करते समय या तो JioMart के माध्यम से या नकद में भुगतान कर सकते हैं।

Bloomberg की खबर के मुताबिक मेटा प्लेटफॉर्म्स इंक, जिसे पहले फेसबुक इंक के नाम से जाना जाता था, ने रिलायंस की जियो प्लेटफॉर्म्स यूनिट में करीब 6 अरब डॉलर का निवेश किया था। यह सेवा यूजर तक पहुंचने के लिए भारत के सबसे बड़े मोबाइल ऑपरेटर Jio की लोकप्रियता का इस्‍तेमाल करती है और डिलीवरी के लिए अपनी रिलायंस रिटेल पर निर्भर करती है। WhatsApp के देश में लगभग 530 मिलियन यूजर हैं - मेटा का सबसे बड़ा विदेशी आधार - और Jio के 425 मिलियन से अधिक ग्राहक हैं।

बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप के अनुसार, खाने और किराने का सामान देश के खुदरा खर्च के आधे से अधिक होने का अनुमान है, जो 2025 तक 1.3 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है। अंबानी के समूह ने नो-फ्रिल्स $87 स्मार्टफोन की शुरुआत के साथ उस बाजार के एक बड़े हिस्से पर कब्जा करने के लिए अपनी स्थिति को बढ़ाया है, जो कि JioMart और WhatsApp ऐप के साथ आता है। इसे अल्फाबेट इंक के Google के साथ साझेदारी में बनाया गया है।

अपने अमेरिकी भागीदारों और निवेशकों की तरह Google ने पिछले साल कंपनी में $4.5 बिलियन का निवेश किया था। Jio ने अधिक यूजर को अपनी सेवाओं का उपयोग करने के लिए कनेक्ट और नामांकित करने पर प्राथमिकता दी है। मेटा की सिग्नेचर मैसेजिंग सेवा भारत में रिलायंस की मदद से अपने ब्रांड का पुनर्निर्माण कर रही है।

Edited By: Ashish Deep