नई दिल्ली: बैंकर उदय कोटक का मानना है कि वित्तीय सेवा क्षेत्र में मजबूत समेकन होगा इसलिए इस क्षेत्र में केवल पांच बैंकों का ही दबदबा कायम रहेगा जैसा कि वैश्विक स्तर पर भी कायम है। कोटक महिंद्रा के वॉयस चेयरमैन उदय कोटक ने बताया, “विश्व स्तर पर, ज्यादातर देशों में, केवल तीन से पांच बड़े बैंक ही हैं जिनका दबदबा है। इसी तरह का भविष्य हमारे देश में भी होगा।”

उन्होंने कहा कि भारत कुछ बड़े बैंकों के दबदबे की इस वैश्विक प्रवृत्ति से अलग नहीं रहेगा। यह पूछे जाने पर कि किन बैंकों का घरेलू बैंक खंड में दबदबा होगा, कोटक ने बताया कि भारतीय स्टेट बैंक उनमें से एक होगा। उन्होंने इस बात को माना कि उनके बैंक की अधिग्रहण में रुचि है।

कोटक ने कहा, “हम वित्तीय क्षेत्र में साहसिक और पासा पलटने वाला बदलाव लाने को तैयार हैं।’ हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इस बारे में अभी ऐसा कुछ नहीं है जिसकी घोषणा की जाए।

उन्होंने कहा, “बाकी कौन जानता है? हम अपने बारे में कुछ नहीं कह सकते, लेकिन हममें से प्रत्येक को खुद को तालिका में उच्च स्थान पाने के लिए अपनी ओर से प्रयास करने होंगे, हम इसे हल्के में नहीं ले सकते हैं।”

यह भी पढ़ें- नोटबंदी के बाद बैंक खातों को आधार से जोड़ने की रफ्तार तीन गुना बढ़ी

Posted By: Praveen Dwivedi