नई दिल्ली। सोमवार को हुई टाटा संस की ईजीएम (असाधारण सामान्य बैठक) में अपेक्षित बहुमत के साथ साइरस मिस्त्री को टाटा संस के निदेशक पद से हटाने के लिए एक प्रस्ताव पेश कर दिया गया। कंपनी ने एक बयान (प्रेस स्टेटमेंट) जारी कर इसकी पुष्टि कर दी है। गौरतलब है कि आज बुलाई गई टाटा संस की ईजीएम पर रोक लगाने के लिए साइरस मिस्त्री ने ट्रिब्यूनल (NCLAT) का दरवाजा खटखटाया था, लेकिन उनकी मांग को खारिज कर दिया गया था।

एनसीएलएटी ने खारिज की मिस्त्री की मांग:
टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री को नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (एनसीएलएटी) से बीते शुक्रवार को कोई राहत नहीं मिल पाई। मिस्त्री के परिवार की दो कंपनियों की ओर से दायर याचिका टिब्यूनल ने खारिज कर दी। इसमें टाटा संस के बोर्ड से मिस्त्री को हटाने के लिए 6 फरवरी को बुलाई गई असाधारण आम बैठक पर रोक लगाने की मांग की गई थी।

बोर्डरुम विवाद के कारण टॉप 100 कंपनियों से बाहर हुआ टाटा:
बोर्डरुम से ट्रिब्यूनल तक जा पहुंचे साइरस मिस्त्री और रतन टाटा विवाद के कारण टाटा ग्रुप टॉप 100 कंपनियों की सूची से बाहर हो गया है। इस विवाद के कारण 100 अरब डॉलर वाले टाटा ग्रुप की रैंक 82वें स्थान से खिसक कर 103 हो गई है। ब्रांड फाइनेंस ग्लोबल-500 2017 रिपोर्ट में यह बात सामने आई है।

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप