न्यूयॉर्क/लंदन, रॉयटर्स। दुनिया भर के शेयर बाजारों में मंगलवार को गिरावट देखी गई। ऐसा तब हुआ, जब आपूर्ति श्रृंखला में जारी संकट और बढ़ती लागत के कारण कॉर्पोरेट आय पर असर पड़ तथा विनिर्माण उत्पादन धीमा हो गया। इसके अलावा, ट्रेजरी बॉन्ड में गिरावट आई क्योंकि इक्विटी में कमजोरी ने अमेरिकी सरकार के ऋण के लिए एक सेफ-हेवन बिड को रिवाइव कर दिया। अर्थव्यवस्थाओं की सुस्ती को लेकर निवेशकों के चिंतित रहने से शेयर बाजार की दो दिवसीय राहत खत्म हो गई। बढ़ती महंगाई के कारण उपभोक्ताओं ने खर्च में कटौती की और कॉर्पोरेट लाभ मार्जिन में भी कमी आई। मई में यूएस और यूरो जोन की कारोबारी गतिविधियां धीमी रहीं। एसएंडपी ग्लोबल ने अपने यूएस कंपोजिट पीएमआई आउटपुट में गिरावट के लिए बढ़े महंगाई दबाव, आपूर्तिकर्ता वितरण के समय में कमी और कमजोर मांग वृद्धि को जिम्मेदार ठहराया है।

माल ढुलाई और कच्चे माल की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण एबरक्रॉम्बी एंड फिच कंपनी ने यह माना कि उसे कम से कम साल के अंत तक हेडविंड का सामना करना पड़ेगा। इससे पहले, स्नैपचैट की पैरेंट कंपनी स्नैप इंक ने कहा कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था अप्रैल में उम्मीद से ज्यादा तेजी से खराब हुई है। वहीं, इंस्पेरएक्स के वरिष्ठ ट्रेडर डेविड पेट्रोसिनेली ने कहा कि मुद्रास्फीति को कंट्रोल में करने के लिए फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी किए जाने के कारण अर्थव्यवस्था में गिरावट आने की संभावना है। उन्होंने कहा, "वास्तव में मांग को पूरा करने की आवश्यकता है।"

दुनिया भर में MSCI के शेयर 0.91 प्रतिशत नीचे बंद हुए। पैन-यूरोपियन STOXX 600 सूचकांक 1.14 प्रतिशत गिर गया। वहीं, वॉल स्ट्रीट पर Nasdaq कंपोजिट में 2.35 प्रतिशत और S&P500 में 0.81% की गिरावट आई क्योंकि निवेशकों ने रक्षात्मक रुख अपनाया। लेकिन, शेयरों में गिरावट देर से आई और डाउ जोंस इंडस्ट्रियल एवरेज 0.15 फीसदी ऊपर बंद होने में कामयाब रहा। वैल्यू शेयरों में 0.17 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जबकि ग्रोथ शेयरों में 1.90 प्रतिशत की गिरावट आई। इसके अलावा, यूरोप के सभी प्रमुख क्षेत्रों में गिरावट दर्ज की गई।

Edited By: Lakshya Kumar