नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। अमेरिका और चीन के बीच trade deal पर सहमति बनने के कारण विश्लेषकों को उम्मीद है कि कल से शुरू हो रहे कारोबारी सत्र में शेयर बाजारों में रौनक बनी रहेगी। ब्रिटेन में हुए आम चुनाव में बोरिस जॉनसन की भारी जीत से भी वैश्विक स्तर पर एक तरह की स्थिरता का आगाज हुआ है। अमेरिका और चीन ने लंबे समय तक बातचीत के बाद व्यापार सौदे के पहले चरण तक पहुंचने की हाल में घोषणा की है। दोनों देशों ने एक-दूसरे के खिलाफ अतिरिक्त शुल्क लगाने की योजना को भी निलंबित कर दिया है।

रेलिगेयर ब्रोकिंग के वाइस प्रेसिडेंट (रिसर्च) अजीत मिश्रा ने कहा, ''वैश्विक मोर्चे पर हालिया घटनाक्रम से लंबे समय के संकट का डर अब टल गया है। इससे भारत सहित सभी वैश्विक बाजारों के निवेशकों में खुशी है। हमें लगता है कि आने वाले हफ्ते में सकारात्मक माहौल बना रहेगा।''

नकदी के प्रवाह से भी सकारात्मक माहौल

Motilal Oswal Financial Services के प्रमुख (रिटेल रिसर्च) सिद्धार्थ खेमका ने कहा कि अमेरिका-चीन के बीच व्यापारिक समझौते पर अधिक स्पष्टता होने के कारण बाजार में सकारात्मक माहौल बने रहने की संभावना है। उन्होंने कहा कि नकदी के प्रवाह को लेकर भी माहौल अनुकूल है, जिसके बने रहने की संभावना है। बकौल खेमका सकारात्मक वैश्विक संकेतों और नकदी के प्रवाह के कारण इस हफ्ते भी माहौल सकारात्मक बने रहने की उम्मीद है। 

WPI आंकड़ों पर भी रहेगी नजर

इन तमाम वृहद आर्थिक आंकड़ों के साथ निवेशकों की निगाहें सोमवार को थोक मुद्रास्फीति के जारी होने वाले आंकड़ों पर भी रहेगी। एपिक रिसर्च के सीईओ मुस्तफा नदीम ने कहा, ''हमें उम्मीद है कि परिस्थितियां अनुकूल होने, वैश्विक धारणा के बेहतर होने से इस सप्ताह निवेशकों को काफी बल मिलेगा।''

इन सभी पहलुओं के साथ रुपये-डॉलर ट्रेंड और कच्चे तेल की कीमतों से भी बाजार की दिशा तय होगी। पिछले सप्ताह 30 शेयरों पर आधारित BSE Sensex 564.56 अंक यानी 1.39 फीसद चढ़ा था। शुक्रवार को सेंसेक्स 1.05 फीसद की तेजी के साथ 41,009.71 अंक पर बंद हुआ था।

Posted By: Ankit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस