Move to Jagran APP

छोटे बिजनेस को टारगेट कर रहा SBI, विकास के साथ तेजी से लोन अप्रूवल पर फोकस

देश के सबसे बड़े ऋणदाता एसबीआई ने मंगलवार को कहा कि छोटे व्यवसायों को ऋण देना अगले पांच वर्षों के लिए विकास और लाभ का केंद्र बिंदु होगा। सरकारी स्वामित्व वाले इस ऋणदाता ने एसएमई (लघु और मध्यम उद्यम) डिजिटल व्यवसाय ऋण नामक एक उत्पाद लॉन्च किया जिसके तहत 45 मिनट में ऋण स्वीकृत किया जाएगा। बैंक के SMI पोर्टफोलियो में पिछले वर्ष 20% से अधिक वृद्धि देखी गई है।

By Agency Edited By: Ankita Pandey Published: Tue, 11 Jun 2024 05:50 PM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 05:50 PM (IST)
SBI ने SMI डिजिटल बिजनेस लोन नामक एक नया कार्यक्रम शुरू किया

पीटीआई, नई दिल्ली। एसबीआई ने तेजी से लोन अप्रूवल के साथ विकास के लिए छोटे व्यवसायों को लक्षित किया है। भारत के अग्रणी ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने छोटे और मध्यम उद्यमों (SMI) को अपने भविष्य के विकास के प्रमुख चालक के रूप में पहचाना है।

बैंक ने एसएमई के लिए लोन एक्सेस को सुव्यवस्थित करने की अपनी प्रतिबद्धता की घोषणा की, जिसका लक्ष्य अगले पांच वर्षों में इसे फायदे को ध्यान में रखते हुए केंद्र बिंदु बनाना है।

SBI MSME डिजिटल बिजनेस लोन

अपने इस लक्ष्य को पाने के लिए SBI ने SMI डिजिटल बिजनेस लोन नामक एक नया कार्यक्रम शुरू किया। यह पहल केवल 45 मिनट में लोन स्वीकृति का वादा करती है।

बैंक का लक्ष्य आने वाले महीनों में पार्टनर टचपॉइंट्स और क्यूआर कोड के माध्यम से सेवा देकर एक्सेस को और बढ़ाना है, जिससे यह बिजनेस के लिए और भी सुविधाजनक हो जाएगा।

SBI के SMI पोर्टफोलियो में पिछले वर्ष 20% से अधिक की प्रभावशाली वृद्धि देखी गई है। उन्होंने गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों के प्रबंधन में भी महत्वपूर्ण प्रगति की है, जो उन्हें 9.43% के उच्च स्तर से घटाकर 3.75% पर ला दिया है। SMI डिजिटल बिजनेस लोन कार्यक्रम को डिजिटलीकरण में एक महत्वपूर्ण छलांग के रूप में देखा जा रहा है।

आसान है लोन प्रक्रिया

एसबीआई के चेयरमैन दिनेश खारा ने तेज और अधिक सहज लोन प्रक्रिया के लिए डेटा पर कार्यक्रम की निर्भरता पर प्रकाश डाला। यह डिजिटल दृष्टिकोण आयकर रिटर्न, जीएसटी फाइलिंग और बैंक स्टेटमेंट जैसे सोर्स से मौजूदा जानकारी का लाभ उठाता है। बैंक ने एक परिष्कृत क्रेडिट इवेलुएशन इंजन भी विकसित किया है जो आवश्यक विवरण पाने के 10 सेकंड के भीतर ऋण निर्णय दे सकता है।

50 लाख रुपये (लगभग $62,500 USD) तक के ऋणों के लिए एसबीआई पारंपरिक वित्तीय विवरणों की आवश्यकता को माफ कर रहा है। इसके बजाय, वे ऋण लेने के लिए लेनदेन इतिहास और जीएसटी डेटा पर निर्भर होंगे। यह फंडिंग चाहने वाले छोटे व्यवसायों के लिए प्रक्रिया को सरल बनाता है।

यह भी पढ़ें - Investment Tips: क्या है 8-4-3 फॉर्मूला, जो आपको सिर्फ 15 साल में बना देगा करोड़पति?

नए और मौजूदा व्यवसायों के लिए एक अनूठा प्रस्ताव

एसबीआई के रिटेल बैंकिंग के प्रबंध निदेशक विनय टोंस ने नए और स्थापित एसएमई दोनों के लिए कार्यक्रम के लाभों पर जोर दिया। बैंक 45 मिनट के भीतर सैद्धांतिक ऋण स्वीकृति प्रदान कर रहा है, जिससे व्यवसायों के लिए विकास के लिए आवश्यक पूंजी तक पहुंचना आसान हो गया है।

एसबीआई का एसएमई पर ध्यान केंद्रित करना एक ऐसे क्षेत्र की ओर रणनीतिक बदलाव को दर्शाता है जिसमें अपार संभावनाएं हैं। डिजिटल उपकरणों का लाभ उठाकर और प्रक्रियाओं को सुव्यवस्थित करके, एसबीआई व्यवसायों के लिए वित्तपोषण तक पहुंच को आसान बना रहा है और भारत की आर्थिक वृद्धि में योगदान दे रहा है।

यह भी पढ़ें -PM Kisan Yojana 17th Installment: पीएम किसान योजना की 17वीं किस्त आई या नहीं? यहां दूर करें कन्फ्यूजन

 


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.