नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। मंगलवार को भारतीय रुपया दो महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। दोपहर के दो बजकर 2 मिनट पर रुपया डॉलर के मुकाबले 69.52 के स्तर पर कारोबार करता देखा गया। इसकी प्रमुख वजह ताजा विदेशी निवेश को माना जा रहा है।

इससे पहले मंगलवार के शुरुआती कारोबार में भारतीय रुपया डॉलर के मुकाबले 25 पैसा मजबूत होकर 69.64 के स्तर पर पहुंच गया था। वहीं सुबह 10 बजकर 20 मिनट पर रुपया डॉलर के मुकाबले 69.65 के स्तर पर कारोबार करता देखा गया। सोमवार को रुपया डॉलर के मुकाबले 69.89 के स्तर पर बंद हुआ था।

निर्यातकों की ओर से अमेरिकी मुद्रा की बिक्री के अलावा बैंकों ने भी रुपये को मजबूती देने का काम किया है। डॉलर इंडेक्स जो कि फॉरेन करेंसी की बास्केट में अन्य मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकन करेंसी की वैल्यू को मापता है वो भी 0.17 फीसद की गिरावट के साथ 97.012 के स्तर पर पहुंच गया। इंटरबैंक फॉरेन एक्सचेंज पर रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 69.73 के स्तर पर खुला और फिर सुधरकर 69.64 के स्तर पर पहुंच गया जो कि पिछली क्लोजिंग के मुकाबले 25 पैसे की मजबूती है।

वहीं इक्विटी के अनुरूप बीते कुछ सत्रों में विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) की ओर से लगातार फंड इनफ्लो ने भी विदेशी मुद्रा बाजार की भावना को मजबूती देने का काम किया है। एफआईआई ने सोमवार को 3,810.60 करोड़ रुपये की इक्विटी की शुद्ध लिवाली की, जबकि घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 1,955.55 करोड़ रुपये के शेयरों की शुद्ध बिकवाली की। यह जानकारी प्रोविजनल डेटा के जरिए सामने आई है। गौरतलब है कि आज भारतीय शेयर बाजार ने भी तेज शुरुआत की है।

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप