नई दिल्ली (पीटीआइ)। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने सोमवार को कहा कि केंद्रीय बैंक सरकार के साथ विदेशों में बांड (Sovereign Bonds) जारी करने पर चर्चा करेगा। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ बजट के बाद हुई बैठक के बाद उन्होंने कहा कि सिस्टम में सही लिक्विडिटी है और 2019-20 के बजट में एनबीएफसी सेक्टर के लिए नया प्रावधान किया गया है।

ये भी पढ़ें: इन Credit Card में आपकी जरूरत के हिसाब से मिलेंगे फायदे, जानें आपके लिए कौन सा है बेस्ट

गवर्नर शक्तिकांत दास ने रिपोर्टर्स को बताया कि हम एनबीएफसी और उनके संचालन की निगरानी नियमित अंतराल पर कर रहे हैं। गर्वनर ने कहा कि बजट में बैंक कैपिटलाइजेशन के लिए 70 हजार करोड़ रुपये का प्रस्ताव बहुत ही सकारात्मक कदम है। इससे कर्जदाताओं को न सिर्फ नियामक आवश्यकता का अनुपालन करने में मदद होगी बल्कि बैंकिंग को भी बढ़ावा देगा।

ये भी पढ़ें: IRCTC दे रहा राजस्थान घूमने का मौका, बेहद कम है इस टूर पैकेज की कीमत

ब्याज दर ट्रांसमिशन के बारे में उन्होंने कहा कि उपभोक्ताओं को दी जाने वाली ब्याज दर में 6 माह तक का समय लगता था, लेकिन चीजें बेहतर हुई हैं और अब इसमें थोड़ा समय लग रहा है। जून की मोनेटरी पॉलिसी से पहले आरबीआई की तरफ से घोषित ब्याज दर में 50 बेसिस प्वाइंट की कटौती के बाद 21 बेसिस प्वाइंट का लाभ ग्राहकों तक पहुंचा। उन्होंने कहा कि आने वाले हफ्तों और महीनों में ब्याज दरों में कटौती के बेहतर लाभ ग्राहकों तक पहुंचने की उम्मीद है। 

Posted By: Sajan Chauhan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप