नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। कर्ज में डूबी रुचि सोया शुक्रवार को एक अहम बैठक करेगी जिसमें वह बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद की रिवाइज्ड बिड पर विचार करेगी। सूत्रों के मुताबिक बाबा रामदेव की पतंजलि मध्यप्रदेश की खाद्य तेल कंपनी का अधिग्रहण करना चाहती है।

दिवालिया होने की कगार पर जा पहुंची रुचि सोया को खरीदने के लिए पतंजलि ने पिछले महीने अपनी बोली को 200 करोड़ रुपये बढ़ाकर 4,350 करोड़ रुपये कर दिया था।

अडाणी विल्मर, जो कि पतंजलि के साथ एक लंबी खींचतान के बाद पिछले साल अगस्त महीने में सबसे बड़े बोलीदाता के रुप में उभरकर सामने आई थी, ने दिवाला प्रक्रिया को पूरा करने में देरी का हवाला देते हुए खुद को इस रेस से बाहर कर लिया था।

दिसंबर 2017 में नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) ने स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक और डीबीएस बैंक के आवेदन पर रुचि सोया को दिवालिया कार्यवाही के लिए रेफर कर दिया था। शैलेंद्र अजमेरा को कंपनी के मामलों का प्रबंधन करने और दिवाला प्रक्रिया शुरू करने के लिए रिजॉल्यूशन पेशेवर (आरपी) के रूप में नियुक्त किया गया था।

सूत्रों के मुताबिक, पतंजलि की संशोधित बोली पर चर्चा करने के लिए शुक्रवार को कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स (सीओसी) की बैठक होनी है।

Posted By: Praveen Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस