Move to Jagran APP

OYO ने फिर फाइल किया IPO का ड्राफ्ट पेपर, दिवाली तक लिस्टिंग की उम्मीद

OYO Draft IPO Filing ओयो ने एक बाद फिर अपने आईपीओ के लिए ड्राफ्ट आवेदन कर दिया है। इस बार कंपनी ने प्री-फाइलिंग का रास्ता चुना है और इस साल दिवाली तक इसके शेयरों के लिस्टिंग की बात की जा रही है। (फाइल फोटो)

By Sonali SinghEdited By: Sonali SinghPublished: Fri, 31 Mar 2023 04:19 PM (IST)Updated: Fri, 31 Mar 2023 04:19 PM (IST)
OYO IPO Draft Filing, Likely To List Around Diwali

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। ट्रैवल-टेक फर्म OYO ने एक बार फिर से आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO) के लिए ड्राफ्ट पेपर को फाइल कर दिया है। कहा जा रहा है कि फर्म ने शुक्रवार को शेयर बाजार नियामक सेबी के पास अपना ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) प्री-फाइल किया है। वहीं, कंपनी के सूत्रों के मुताबिक, ओयो इस साल दिवाली के आसपास अपना आरंभिक सार्वजनिक निर्गम पेश कर सकती है।

बता दें कि इससे पहले भी OYO ने ड्राफ्ट आईपीओ फाइल किया था, लेकिन SEBI ने इसे वापस लौटा दिया था और अपडेट करके फाइल करने के लिए कहा गया था।

लिया गया है प्री-फाइलिंग रूट

OYO ने अपने IPO को पेश करने के लिए प्री-फाइलिंग रूट को चुना है। इसके तहत सेबी की अंतिम टिप्पणी की तारीख से 18 महीने के भीतर एक आईपीओ जारी किया जा सकता है। वहीं, बेसिक रूट में कंपनियों को सेबी की मंजूरी या अंतिम अवलोकन से 12 महीने के भीतर आईपीओ लॉन्च करना होता है। प्री-फाइलिंग रूट की खासियत है कि इसमें अपडेटेड ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (यूडीआरएचपी) चरण तक प्राथमिक मुद्दे को 50 प्रतिशत तक बदलने की सहूलियत मिलती है।

नकदी प्रवाह में हुआ सुधार

कंपनी के संस्थापक रितेश अग्रवाल ने एक कर्मचारी टाउनहॉल में कहा है कि कंपनी को वित्त वर्ष 2024 में लगभग 800 करोड़ रुपये के समायोजित एबिटडा की उम्मीद है। वहीं, कंपनी के पास लगभग 2,700 करोड़ रुपये की वर्तमान नकदी शेष है। हालांकि, नकदी प्रवाह में सुधार हुआ है, जिससे कंपनी को मौजूदा परिचालनों के लिए इसका बहुत कम उपभोग करने की उम्मीद है।

सितंबर 2021 में दायर किया था IPO

OYO ने 8,430 करोड़ रुपये के IPO के लिए सितंबर 2021 को सेबी के साथ प्रारंभिक दस्तावेज दायर किए थे, जिसमें 7,000 करोड़ रुपये तक के इक्विटी शेयरों का एक नया अंक और 1,430 करोड़ रुपये की बिक्री का प्रस्ताव शामिल था, लेकिन अस्थिर बाजार स्थितियों के कारण इसे लाने में देरी हुई थी और बादम मेंसेबी ने इसे फिर से अपडेट करके फाइल करने को कहा।

 


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.