नई दिल्ली (पीटीआइ)। देश के नौ प्रमुख शहरों में 2019 की पहली छमाही में किराये पर कार्यालय लेने में 36 फीसद की वृद्धि हुई है। इस दौरान कुल 3.18 करोड़ वर्गफुट कार्यालय क्षेत्र किराये पर लिया गया। सीबीआरई ने यह जानकारी दी है। उसके अनुसार कॉरपोरेट कंपनियों की भारी मांग की वजह से इस क्षेत्र में डेढ़ अरब डॉलर का पूंजीगत निवेश हुआ। सीबीआरई एक संपत्ति सलाहकार कंपनी है। कंपनी ने दिल्ली-एनसीआर, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, बेंगलुरू, हैदराबाद, पुणे, कोच्चि और अहमदाबाद के आंकड़ों के आधार पर अपनी यह रिपोर्ट 'इंडिया ऑफिस मार्केट व्यू' को दी है। वर्ष 2018 की जनवरी-जून अवधि में कुल 2.33 करोड़ वर्गफुट कार्यालय क्षेत्र किराये पर उठा था।

परामर्श कंपनी का अनुमान है कि 2019 में किराये पर कार्यालय लेने के मामले में पांच से 10 फीसद तक की वृद्धि देखने को मिलेगी और कुल 4.82 करोड़ वर्गफुट कार्यालय क्षेत्र को किराये पर लिया जाएगा। रिपोर्ट के मुताबिक, कार्यालय क्षेत्र को किराये पर लेने की ज्यादा मांग के चलते संस्थागत निवेशक और डेवलपर दोनों ही इस क्षेत्र की ओर आकर्षित हुए हैं।

किराया क्षेत्र में निरंतर वृद्धि की वजह से पहली छमाही में कार्यालय क्षेत्र में डेढ़ अरब डॉलर का निवेश आया। सीबीआरई के चेयरमैन एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी (दक्षिण पूर्व एशिया, पश्चिमी एशिया और अफ्रीका) अंशुमन मैगजीन ने कहा कि उन्हें कार्यालय क्षेत्र को किराये पर लेने में टेक्नोलॉजी कॉरपोरेटों की मांग 2019 में भी मजबूत रहने की उम्मीद है। यह रुख साल की पहली छमाही में भी देखने को मिला है।

समीक्षावधि में बेंगलुरू, हैदराबाद, दिल्ली-एनसीआर और मुंबई में कुल कार्यालय क्षेत्र का करीब 80 फीसद पहली छमाही में किराये पर उठ गया। आंकड़ों के मुताबिक किराये पर बेंगलुरू में किराये पर लिया जाने वाला कार्यालय क्षेत्र बढ़कर 95 लाख वर्गफुट रहा जो पिछले साल इसी अवधि में 83 लाख वर्गफुट था। 

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस