नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) ने राष्ट्रीय राजमार्गों पर स्थित विभिन्न टोल प्लाजा की रैंकिंग करने का निर्णय लिया है। इसकी शुरुआत 10 फरवरी हो गई है। यह रैंकिंग टोल प्लाजा पर तैनात कर्मचारियों को दक्ष व विनम्र बनाने तथा वहां उपलब्ध सुविधाओं और सेवाओं की स्थिति में सुधार के उद्देश्य से शुरू की गई है।

रैंकिंग के तहत प्रत्येक टोल प्लाजा पर तैनात कर्मचारियों के व्यवहार, फास्टैग लेनों की संख्या, साफ-सफाई, मार्शल की तैनाती, टायलेट की उपलब्धता व दशा, हाईवे नेस्ट मिनी की कार्यप्रणाली, एंबुलेंस व क्रेन की उपलब्धता आदि के आधार पर टोल प्लाजा की श्रेष्ठता या दुर्दशा का आकलन किया जाएगा।

एनएचएआइ के चेयरमैन दीपक कुमार ने नौ फरवरी को सभी फील्ड ऑपरेशन यूनिट के अफसरों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग की थी। इसमें इन अफसरों से अपने इलाके के कम से कम दो टोल प्लाजा का दौरा कर उनका मुआयना करने को कहा था। इस देशव्यापी अभियान के आधार पर पूरे देश में 300 टोल प्लाजा का 10 फरवरी को मुआयना किया गया और इसके अनुभवों के आधार पर टोल प्लाजा की रैंकिंग करने का फैसला किया गया है। हर तिमाही में तीन सर्वश्रेष्ठ टोल प्लाजा का चयन किया जाएगा और उनके नाम एनएचएआइ की वेबसाइट पर दिए जाएंगे।

By Surbhi Jain