नई दिल्‍ली (बिजनेस डेस्‍क)। देश के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी एक के बाद एक नए कीर्तिमान स्थापित करते जा रहे हैं। मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) ने अब एक और बड़ी उपलब्धि प्राप्त की है। अब यह कंपनी भारत की सबसे बड़ी कंपनी बन गई है। वित्‍त वर्ष 2018-19 में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने रेवेन्यू के मामले में इंडियन ऑयल की बादशाहत को खत्म कर यह उपलब्धि हासिल की है।

31 मार्च को समाप्त हुए वित्‍त वर्ष 2018-19 में रिलायंस ने 6.23 लाख करोड़ रुपये का कारोबार किया था जबकि आईओसी सिर्फ 6.17 लाख करोड़ रुपये का कारोबर कर रिलायंस से पिछड़ गई। वहीं रिलायंस वित्‍त वर्ष 2019 में इंडियन ऑयल से करीब दोगुना लाभ कमाकर देश की सबसे अधिक लाभदायक कंपनी भी बनी थी। रिलायंस की कुल आय में उसके खुदरा, दूरसंचार और डिजिटल सेवाओं का राजस्व सबसे अधिक है। रिलायंस का बाजार पूंजीकरण मंगलवार को 8,56,069.63 करोड़ रुपये रहा था जबकि आईओसी का 1,48,347.90 करोड़ रुपये रहा। बता दें कि, पिछले 11 सालों से इंडियन ऑयल कॉर्प (IOC) इस मामले में शीर्ष पर बनी हुई थी।

मजबूत रिफाइनिंग मार्जिन और मजबूत खुदरा कारोबार के कारण रिलायंस ने पिछले वर्ष की तुलना में वित्‍त वर्ष 2019 में राजस्व में 44 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की और वित्‍त वर्ष 2010 और वित्‍त वर्ष 2019 के बीच 14 प्रतिशत से अधिक की वार्षिक वृद्धि दर अर्जित की। इसके विपरीत, IOC का कारोबार वित्त वर्ष 2019 में 20 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2015 और वित्त वर्ष 19 के दौरान 6.3 प्रतिशत तक ही बढ़ा।

बता दें कि, आज से करीब एक दशक पहले तक रिलायंस का आकार आईओसी के आधे के बराबर था। लेकिन दूरसंचार, खुदरा और डिजिटल सेवाओं जैसे नए व्यवसायों में रिलायंस ने जबरदस्‍त विस्‍तार किया जिससे रिलायंस का व्यापार बढ़ता ही गया। आज तेल, गैस, दूरसंचार और खुदरा कारोबार जैसे कई बड़े क्षेत्रों के बाजार में रिलायंस की अच्छी पकड़ है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Manish Mishra