नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क/एजेंसी)। करीब 200 से अधिक पायलटों ने कंपनी के सीईओ विनय दुबे को चिट्ठी लिखकर ''छुट्टी'' पर जाने की चेतावनी दी है। सूत्रों के मुताबिक पायलटों ने वेतन भुगतान नहीं किए जाने के मामले में कानूनी कार्रवाई की भी चेतावनी दी है।

नकदी संकट की वजह से जेट अपने कई विमानों को ऑपरेशन से हटा चुका है। वहीं, पायलटों और अन्य कर्मचारियों के साथ वेंडर का भी भुगतान करने में भी विफल रही है। कंपनी कर्ज भुगतान के मामले में भी डिफॉल्ट कर चुकी है।

सूत्रों के मुताबिक करीब 200 पायलटों ने सीईओ को चिट्ठी लिखकर वेतन नहीं मिलने को लेकर चिंता जताई है। जेट में काम करने वाले पायलट नैशनल एविएटर्स गिल्ड (एनएजी) के भी सदस्य हैं।

एनएजी ने हालांकि चिट्ठी लिखने वाले पायलटों की संख्या के बारे में नहीं बताया। एनएजी ने कहा कि कुछ पायलटों ने निजी हैसियत से सीईओ को चिट्ठी लिखी है। चिट्ठी का जिक्र करते हुए सूत्र ने कहा कि पायलटों ने एक अप्रैल से छु्ट्टी पर भी जाने की चेतावनी दी है।

शुक्रवार को एनएजी ने कहा था कि अगर वेतन का भुगतान नहीं किया जाता है, तो पायलट काम पर नहीं आएंगे।गौरतलब है कि सोमवार को जेट एयरवेज के बोर्ड ने एसबीआई की अगुवाई में बैंकों के समूह की तरफ से पेश किए गए समाधान योजना को मंजूरी दे दी है। इस योजना के तहत नरेश गोयल और उनकी पत्नी को अपनी हिस्सेदारी कम करनी है, जिसके बाद कंपनी को तत्काल 1,500 करोड़ रुपये की फंडिंग मिलेगी। जेट एयरवेज पर करीब 8,000 करोड़ रुपये का कर्ज है।

यह भी पढ़ें:  अब वैलिड एड्रेस प्रूफ के बिना ऐसे बदलें अपने आधार का पता

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस