नई दिल्ली, एएनआइ। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा है भारत अगले दो वर्षो में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंक में दुनिया के टॉप 50 देशों में शामिल होना चाहता है। इसके बाद सरकार अगले पांच वर्षो में ऊपर के 25 देशों में शामिल होने का लक्ष्य रखेगी।

कांत ‘पहले इंडिया फाउंडेशन’ द्वारा तैयार ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट को जारी करने के मौके पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत इस समय डेमोग्राफिक ट्रांजिशन के दौर से गुजर रहा है, इसलिए तेज विकास होना महत्वपूर्ण है। कांत ने कहा कि हमें अपनी बड़ी जनसंख्या को गरीबी रेखा से ऊपर उठाने की जरूरत है, इसलिए व्यापार को आसान बनाना होगा। हमने पिछले कुछ वर्षो में इस विषय में बेहतर काम किया है इस दौरान 1,300 व्यर्थ कानूनों को पहले ही हटाया जा चुका है।

डिजिटल इंडिया पर बोलते हुए नीति आयोग के सीईओ ने कहा कि ग्रोथ बढ़ाने के लिए डिजिटलीकरण जरूरी है। हमने इसको ध्यान में रखते हुए बीते पांच साल में इकोनॉमी के प्रत्येक क्षेत्र को डिजिटल करने पर ध्यान दिया है। गैर-जरूरी मानवीय हस्तक्षेप को रोकने का प्रयास किया गया है, जिसकी वजह से ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भारत की रैंक में सुधार हुआ है। वल्र्ड बैंक की इस साल जारी ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में भारत 23 स्थान ऊपर पहुंच गया है। गौरतलब है कि 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार ने ईज आफ डूइंग बिजनेस को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए हैं। इसका फायदा यह हुआ है कि पिछले दो वर्षो में भारत की रैंकिंग सुधरी है। 

Posted By: Nitesh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप