नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। Google पैरेंट Alphabet Inc. ने इस साल के बचे हुए दिन के लिए हायरिंग की प्रक्रिया को धीमा कर दिया है। कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते पिछले कई हफ़्तों से गूगल के विज्ञापन में कमी आ रही थी। ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है।

गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुंदर पिचाई ने बुधवार को एक ईमेल के जरिये अपने कर्मचारियों को बताया कि कंपनी लागत में कटौती के लिए अन्य विकल्पों पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि कंपनी फिलहाल डेटा सेंटर और मार्केटिंग जैसे क्षेत्र में निवेश की योजना बना रही है। यह निवेश एक रणनीतिक एरिया में किया जाएगा।

Google के एक प्रवक्ता ने इस बात की पुष्टि की कि कंपनी 'रणनीतिक क्षेत्रों की एक छोटी संख्या में' हायरिंग की गति को बनाए रखेगी। उन्होंने कहा कि कई लोगों को हायर किया जा चुका है लेकिन, अभी काम पर नहीं रखा गया है। 2019 के अंत में 118,899 लोगों को फुल टाइम नौकरी मिली।

गूगल की इस घोषणा से पता चलता है कि कोरोनावायरस ने किस तरह से दुनिया भर की अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया है। यही नहीं इस वायरस के प्रकोप से कुछ सबसे अमीर तकनीकी व्यवसाय भी प्रभावित हो रहे हैं। बिजनेस इनसाइडर के अनुसार, सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी, Microsoft Corp. ने हाल ही में कुछ भर्तियों पर रोक लगाई है।

ऐसे वक्त में जब स्टार्टअप कंपनियां अपने वहां से हजारों लोगों को नौकरी से निकाल रही हैं, इसकी तुलना में Google मौजूदा समय में कर्मचारियों के नौकरी के लिहाज से एक अच्छा जगह बना हुआ है। लेकिन कंपनी के राजस्व में गिरावट की संभावना है, क्योंकि कई व्यवसायों ने पैसे बचाने के लिए विज्ञापन खर्च में कटौती की है। कोरोना संकट ने रिटेल और ट्रैवल सेक्टर को सबसे ज्यादा प्रभावित किया है और ये Google को सबसे ज्यादा विज्ञापन देते हैं। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस