Move to Jagran APP

Gold Silver Price: सोना हुआ सस्ता और चांदी में आई चमक, यहां चेक कीजिए लेटेस्ट प्राइस

राष्ट्रीय राजधानी में सोने की कीमत 100 रुपये गिरकर 73310 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। वहीं चांदी 180 रुपये बढ़कर 94450 रुपये प्रति किलोग्राम रही। कॉमेक्स में हाजिर सोना पिछले बंद के मुकाबले 11 डॉलर प्रति औंस की गिरावट के साथ 2362 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रहा था। मुद्रास्फीति के आंकड़ों की प्रत्याशा के कारण गोल्ड की कीमतें कम रहने की संभावना है।

By Agency Edited By: Ram Mohan Mishra Tue, 09 Jul 2024 06:59 PM (IST)
Gold Silver Price: सोना हुआ सस्ता और चांदी में आई चमक, यहां चेक कीजिए लेटेस्ट प्राइस
Gold Price में कटौती आई है और Silver महंगी हो गई।

पीटीआई, नई दिल्ली। HDFC Securities के अनुसार, कमजोर वैश्विक संकेतों के बीच मंगलवार को राष्ट्रीय राजधानी में सोने की कीमत 100 रुपये गिरकर 73,310 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। वहीं, चांदी 180 रुपये बढ़कर 94,450 रुपये प्रति किलोग्राम रही।

सोमवार को गोल्ड 73,410 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। हालांकि, चांदी की कीमत पिछले सत्र के 94,270 रुपये प्रति किलोग्राम से 180 रुपये बढ़कर 94,450 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के शोध विश्लेषक दिलीप परमार ने कहा-

फेड सदस्य के भाषण और अमेरिकी मुद्रास्फीति के आंकड़ों से पहले सोने की कीमतों में गिरावट आई। घरेलू और वैश्विक मोर्चे पर चांदी की कीमतों में मजबूत बेस मेटल और जोखिम भरे मूड को देखते हुए तेजी आई।

यह भी पढे़ं- Vegetable Price Hike: पहले गर्मी और अब बारिश की मार से बढ़ गए सब्जियों के भाव, आगे भी नरमी के नहीं हैं कोई आसार

परमार ने आगे कहा कि कहा कि निकट भविष्य में चांदी की कीमतों के सोने से बेहतर प्रदर्शन करने की उम्मीद है।

वैश्विक बाजार की स्थिति 

विदेशी मोर्चे पर कॉमेक्स में हाजिर सोना पिछले बंद के मुकाबले 11 डॉलर प्रति औंस की गिरावट के साथ 2,362 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रहा था। हालांकि चांदी 31.03 डॉलर प्रति औंस पर बोली गई। पिछले सत्र में, यह 30.93 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई थी।

सोना सस्ता रहने की संभावना

एलकेपी सिक्योरिटीज में वीपी रिसर्च एनालिस्ट, कमोडिटी और करेंसी, जतीन त्रिवेदी ने कहा कि पिछले दो दिनों में सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव का अनुभव हुआ, चीन द्वारा एक और महीने के लिए सोने की खरीद को रोकने के बाद मुनाफावसूली शुरू हो गई है। मजबूत इक्विटी और प्रमुख फेड बयानों और मुद्रास्फीति के आंकड़ों की प्रत्याशा के कारण गोल्ड की कीमतें कम रहने की संभावना है।

यह भी पढे़ं- Budget 2024: लेदर सेक्टर को कच्चे माल के साथ PLI Scheme की जरूरत, आयात शुल्क को खत्म करने की है मांग