मुंबई, बिजनेस डेस्क। देश के सबसे बड़े बैंक SBI के अर्थशास्त्रियों ने बुधवार को कहा कि 2019 के अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में GDP Growth 4.5 फीसद पर बने रहने का अनुमान है। इस आधिकारिक आंकड़े को जारी किए जाने से दो दिन पहले बैंक ने यह अनुमान जाहिर किया है। बैंक के अर्थशास्त्रियों ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि भारत की इकोनॉमी चीन में फैले कोरोनावायरस की वजह से प्रभावित हो सकती है। उनके मुताबिक कई तरह के सामान के आयात के लिए चीन पर निर्भरता के कारण यह खतरा बना हुआ है। 

सरकार की ओर से जारी पहले अनुमान के मुताबिक 2019-20 में देश की आर्थिक विकास की गति एक दशक के निचले स्तर यानी पांच फीसद के आसपास रह सकती है। 

देश की आर्थिक विकास दर में यह कमी मुख्य रूप से घरेलू खपत में कमी और दुनियाभर के बाजारों में सुस्ती के माहौल की वजह से आई है। देश की GDP Grwoth में कमी को देखते हुए सरकार और आरबीआई ने कई तरह के कदम उठाए हैं। इसी दिशा में भारतीय रिजर्व बैंक ने 2019 में रेपो रेट में 1.35 फीसद की कटौती की थी। इसके अलावा सरकार ने सितंबर में कॉरपोरेट टैक्स में भारी कटौती का ऐलान किया था। 

हालांकि, एसबीआई के अर्थशास्त्रियों ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए जीडीपी वृद्धि दर के अपने अनुमान को 4.6% से सुधारकर 4.7% कर दिया है। 

कोरोनावायरस के इकोनॉमी पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में बैंक के अर्थशास्त्रियों ने कहा कि इस वजह से सप्लाई चेन में दिक्कत आ सकती है।

Posted By: Ankit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस