नई दिल्ली, पीटीआई । शुक्रवार को जारी सरकारी आंकड़ों के अनुसार, आठ कोर इंडस्ट्रीज की ग्रोथ नवंबर 2021 में 3.1 फीसदी बढ़ी, जो साल 2021 में फरवरी के बाद से सबसे कम वृद्धि दर है, जबकि साल 2020 के इसी महीने में 1.1 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी। कच्चे तेल और सीमेंट को छोड़कर अन्य सभी क्षेत्रों में नवंबर में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई है। अक्टूबर में इन प्रमुख क्षेत्रों की वृद्धि दर 8.4 प्रतिशत बढ़ी थी। फरवरी 2021 में विकास दर 3.3 फीसदी पर आ गई थी।

अप्रैल-नवंबर के बीच 13.7 प्रतिशत रही विकास दर

आठ बुनियादी ढांचा क्षेत्रों- कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और बिजली की विकास दर चालू वित्त वर्ष के दौरान अप्रैल-नवंबर के बीच 13.7 प्रतिशत रही, जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि के दौरान 11.1 प्रतिशत की नकारात्मक वृद्धि के साथ दर्ज की गई थी।

नवंबर के आंकड़े क्या कहते हैं?

आंकड़ों के मुताबिक, नवंबर में कोयला क्षेत्र में 8.2 फीसदी, प्राकृतिक गैस में 23.7 फीसदी, रिफाइनरी उत्पादों में 4.3 फीसदी, उर्वरकों में 2.5 फीसदी, स्टील में 0.8 फीसदी और बिजली में 1.5 फीसदी की वृद्धि हुई है. आठ प्रमुख उद्योगों औद्योगिक में उत्पादन सूचकांक (IIP) में शामिल वस्तुओं का 40.27 प्रतिशत भार शामिल है।

क्या हैं आठ बुनियादी ढांचा क्षेत्रों?

जब आठ बुनियादी ढांचा क्षेत्रों की बात की जाती हैं तो उसमें कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और बिजली शामिल होती है। यह देश के बुनियादी ढांचे के लिए बहुत जरूरी सेक्टर हैं। देश की व्यवस्था में इनका बड़ा योगदार रहता है। इनके आंकड़ों पर सभी की नजर होती है कि आखिर यह सेक्टर कैसा परफॉर्म कर रहे हैं।

Edited By: Lakshya Kumar