नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल की कीमतें 11 साल के न्यूनतम स्तर पर पहुंच गई हैं। सऊदी अरब और इरान के बीच तनातनी की वजह से कच्चे तेल की कीमतें 35 डॉलर प्रति बैरेल पर पहुंच गई हैं। बुधवार को बें्क क्रूड ऑयल का वायदा भाव 35.07 डॉलर प्रति बैरल पर था जिसमें 1.35 डॉलर प्रति बैरल की गिरावट दर्ज की गई। इसके साथ ही तेल का भाव गिरकर 2004 के शुरुआती दिनों के निचले स्तर पर आ गया था।

पिछले पांच सालों में प्रतिशत के आधार पर ये सबसे बड़ी गिरावट है। अमेरिका में तेल का वायदा भाव 88 सेंट्स गिरकर 35.09 डॉलर प्रति बैरल था जबकि मंगलवार को पहले ही 79 सेंट्स की गिरावट दर्ज की गयी थी।

बताया जा रहा है कि सऊदी अरब और इरान के बीच तनातनी की वजह से दोनों देश तेल का उत्पादन कम नहीं करने वाले हैं। इसके अलावा ये भी डर है कि चीन और भारत में आर्थिक विकास की रफ्तार कम होने से पहले से ही जमा तेल के भंडार की खपत नहीं हो पाएगी। ऐसे में कच्चे तेल की कीमतों में और गिरावट दर्ज की जा सकती है।

Edited By: Lalit Rai