नई दिल्ली, जागरण ब्‍यूरो। इलेक्ट्रानिक्स व आइटी मंत्रालय के अधीन काम करने वाला कामन सर्विस सेंटर (CSC) अपना मोबाइल वालेट लांच करने जा रहा है। गुरुवार को इसकी शुरुआत की जाएगी। इस वालेट को 'सीएससी पे' का नाम दिया गया है। सीएससी-एसपीवी के एमडी दिनेश कुमार त्यागी ने बताया कि फिलहाल सीएससी पे दो लाख से अधिक केंद्रों पर काम करेगा। अभी यह क्यूआर कोड के रूप में होगा, जो सीएससी द्वारा दी जा रही सेवाओं के शुल्क का भुगतान आनलाइन माध्यम से करने की सुविधा देगा। इससे ग्राहकों को नकद भुगतान नहीं करना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि जल्द ही सीएससी पे एप गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकेगा। उसके बाद इस एप के जरिये सीएससी की किसी भी सेवा के बदले डिजिटल भुगतान किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: ब्याज दरों में बढ़ोतरी के संकेत, एचडीएफसी बैंक और बजाज फाइनेंस ने सावधि जमा दरों पर ब्याज बढ़ाई

एमएसएमई और खुदरा कारोबारियों को भी सीएससी पे से जोड़ने की तैयारी चल रही है। त्यागी ने बताया कि गुरुवार को रेलटेल के साथ मिलकर गांवों में ब्राडबैंड इंटरनेट सेवा पहुंचाने का काम भी शुरू किया जाएगा। उन्होंने बताया कि रेलटेल के पास 6000 स्थानों पर इंटरनेट से जुड़े प्वाइंट आफ प्रेजेंस (पाप) है जिसकी मदद से सीएससी पाप के आसपास के गांवों में ब्राडबैंड इंटरनेट सेवा पहुंचाने का काम करेगा।

यह भी पढ़ें: विदेश में बसना है तो इन शहरों में मिलेगा काम और घर जैसा माहौल, जानिए टॉप 3 में कौन-कौन शामिल

सीएससी का यह काम भारतनेट के तहत गांवों को ब्राडबैंड से कनेक्ट करने की जारी स्कीम से अलग होगा। त्यागी ने बताया कि रेलटेल को फायदा यह होगा कि वे गांवों में इंटरनेट की बिक्री कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि गुरुवार से सभी सीएससी पर इफको के साथ मिलकर नैनो यूरिया की बिक्री भी शुरू की जा रही है।

Edited By: Manish Mishra