कानपुर, राजीव सक्सेना। नए वर्ष में देश का सबसे बड़ा ग्रामीण बैंक सामने आएगा। बड़ौदा उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक, पूर्वाचल बैंक और काशी गोमती संयुक्त ग्रामीण बैंक को मिलाकर नया ग्रामीण बैंक बनेगा। इसका कुल कारोबार 65 हजार करोड़ रुपये होगा। अभी सबसे ज्यादा कारोबार वाला आर्यावर्त बैंक का है। दूसरे नंबर पर कर्नाटक विकास बैंक है। नए बैंक के गठन के लिए वित्त मंत्रलय में बैंकिंग विभाग के वित्त सेवा निदेशक ने बैंक ऑफ बड़ौदा को पत्र लिखकर नाम के बारे में जानकारी चाही है ताकि नोटिफिकेशन जारी हो सके।

उत्तर प्रदेश में पांच ग्रामीण बैंक हैं। वर्ष की शुरुआत में इनकी संख्या सात थी। इन्हें तीन बैंक में बदलना था। अभी तक चार बैंकों का विलय कर दो बैंक बनाए जा चुके हैं। अब बड़ौदा उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक, पूर्वाचल बैंक और काशी गोमती संयुक्त ग्रामीण बैंक को मिलाकर नया बैंक बनेगा। बैंक से जुड़े लोगों का मानना है कि अगले वर्ष पहली जनवरी या पहली अप्रैल को इन्हें मिला दिया जाएगा।

आर्यावर्त बैंक 45 हजार करोड़ रुपये के कारोबार के साथ प्रथम स्थान पर है। 44 हजार करोड़ रुपये के कारोबार के साथ कर्नाटक विकास बैंक दूसरे नंबर पर है। नए बैंक का कुल कारोबार 65 हजार करोड़ का होगा। इनमें बड़ौदा उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक का 27 हजार करोड़, काशी गोमती संयुक्त ग्रामीण बैंक का 17 हजार करोड़ और पूर्वाचल बैंक का 21 हजार करोड़ रुपये का कारोबार है। इनके विलय से देश का सबसे बड़ा ग्रामीण बैंक उभरकर सामने आएगा।

इस बैंक के पास 48 हजार करोड़ रुपये जमा मद में और 17 हजार करोड़ रुपये बांटे गए कर्ज के रूप में होंगे। तीनों बैंक की करीब 1,750 शाखाएं और कर्मचारियों की कुल संख्या 9,000 है। बैंक के खाताधारकों की संख्या एक करोड़ से अधिक है। बैंक ऑफ बड़ौदा इसका प्रमोटर होगा।

Posted By: Pawan Jayaswal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप