नई दिल्ली, पीटीआइ। विप्रो के सॉफ्टवेयर एक्सपोर्टर अजीम प्रेमजी ने वित्त वर्ष 2021 में 9,713 करोड़ रुपये या रोज के 27 करोड़ रुपये प्रतिदिन दान दिया। दान देने के मामले में प्रेमजी अब भी रैंकिंग में टॉप पर हैं। कंपनी के संस्थापक अध्यक्ष प्रेमजी ने महामारी वर्ष के दौरान अपने दान में लगभग एक चौथाई की वृद्धि की। Edelgive Hurun India Philanthropy List 2021 के अनुसार, एचसीएल के शिव नादर दूसरे स्थान पर थे, जिन्होंने 1,263 करोड़ रुपये का योगदान किया था।

मुकेश अंबानी ने 577 करोड़ रुपये किया दान 

भारत के सबसे अमीर व्यक्ति रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुकेश अंबानी 577 करोड़ रुपये के योगदान के साथ लिस्ट में तीसरे स्थान पर रहे और कुमार मंगलम बिड़ला ने 377 करोड़ रुपये दान किए। दूसरे सबसे अमीर भारतीय गौतम अडानी आपदा राहत के लिए 130 करोड़ रुपये के दान के साथ दाताओं की सूची में आठवें स्थान पर हैं। इंफोसिस के सह-संस्थापक नंदन नीलेकणी की रैंकिंग में सुधार हुआ और 183 करोड़ रुपये के दान के साथ "सामाजिक सोच" को प्राथमिक कारण के रूप में पहचाना गया।

Hurun India के मैनजिंग डायरेक्टर और चीफ रिसर्चर Anas Rahman Junaid ने कहा, मौजूदा समय में अधिकांश पैसा बुनियादी जरूरतों के कारण शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा जैसे बुनियादी पहलुओं में जा रहा है। नीलेकणी ने वास्तव में दिलचस्प योगदान दिया है और 10 वर्षों में हमारे पास व्यापक नागरिक समाज के मुद्दे प्राथमिक कारणों के रूप में होंगे।

उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे 40 वर्ष से कम आयु के लोगों की आयु प्रोफाइल बदल जाती है और उनमें से कई सेल्फ मेड होने के कारण भी एक आशावादी तस्वीर पेश करते हैं। लिस्ट में कुछ नए नाम जुड़े हैं जिनमें सबसे बड़े स्टॉक निवेशक राकेश झुनजुनवाला शामिल हैं, जिन्होंने शिक्षा के प्रयासों के साथ वित्त वर्ष 2021 में अपनी कुल कमाई का एक चौथाई या 50 करोड़ रुपये का दान दिया।

भाई नितिन और निखिल कामथ ने जलवायु परिवर्तन के समाधान पर काम कर रहे व्यक्तियों, संगठनों और कंपनियों को समर्थन देने के लिए अगले कुछ वर्षों में 100 मिलियन अमेरिकी डॉलर (750 करोड़ रुपये) की प्रतिबद्धता जताई और सूची में 35 वें स्थान पर हैं।

Edited By: Nitesh