नई दिल्ली: उभरते बाजारों में संरक्षणवाद की आवक दिखाने वाली नीतियों और भू राजनीतिक तनाव में हुई वृद्धि के रूप में नई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। इस बात का उल्लेख करते हुए केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने साल 2018 में भारत की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि 7.7 फीसद पर रहने का अनुमान जताया है।

नई विकास बैंक (एनडीबी) की दूसरी वार्षिक बैठक में बोलते हुए जेटली ने कहा, वैश्विक विकास ऊपर बढ़ रहा है और 2017-18 में आगे सुधार की उम्मीद है। उन्होंने कहा, “साल 2017 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 7.2 फीसद की वृद्धि होने की उम्मीद है और 2018 में 7.7 फीसद की दर से बढ़ने की उम्मीद है।”

जेटली ने कहा कि उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं (ईएमई) ने कुछ अर्थव्यवस्थाओं के संरक्षणवाद की अवाक दिखाने वाली नीतियों, वैश्विक वित्तीय स्थिति, संयुक्त राज्य की नीतियां और बढ़े हुए भू-राजनीतिक तनाव के रूप में नई चुनौतियों का सामना किया। उन्होंने कहा कि भारत ने एनडीबी से विभिन्न परियोजनाओं के लिए 2 अरब डॉलर का ऋण मांगा था जो उभरते देशों भारत, चीन, ब्राजील, रूस और दक्षिण अफ्रीका की ओर से स्थापित किया गया है।
 

Posted By: Praveen Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस