नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। एयर इंडिया के पायलट संघ ने कंपनी को पत्र लिखकर कहा है कि उनके उड़ान भत्ते का भुगतान 10 फरवरी तक किया जाए नहीं तो वे ड्यूटी रोस्टर में कोई बदलाव स्वीकार नहीं करेंगे। बता दें कि फरवरी के लिए रोस्टर पहले ही जारी किया जा चुका है। पायलटों को उड़ान भत्ते का भुगतान महीने में उड़ान घंटों की संख्या के आधार पर किया जाता है।

भारतीय वाणिज्यिक पायलट संघ (आईसीपीए) और भारतीय पायलट गिल्ड (आईपीजी) की ओर से तीन फरवरी को लिखे गए पत्र में कहा गया है, "अगर 10 फरवरी 2019 तक उड़ान भत्ते का भुगतान नहीं किया जाता है, तो हम रोस्टर में कोई बदलाव स्वीकार नहीं करेंगे और सीएमएस (क्रू मैनेजमेंट रोस्टर) प्रिंट रोस्टर को जारी रखेंगे।"

एयरलाइन के सूत्रों के अनुसार, विमान चालक दल के सदस्य स्वास्थ्य समस्याओं जैसे विभिन्न कारणों से अगर नहीं आते हैं तो मंथली ड्यूटी रोस्टर को अंतिम समय पर बदलना पड़ता है और ऐसी स्थिति में उनकी जगह किसी दूसरे कर्मचारी को बुलाना पड़ता है। दोनों संघों के तीन फरवरी के पत्र में कहा गया है, "पिछले एक साल में, वेतन और उड़ान भत्ते में देरी ने हमारी आर्थिक अस्थिरता को बढ़ा दिया है और हम इस आर्थिक तनाव से निपटने में असमर्थ हैं।"

गौरतलब है कि पिछले साल के अधिकांश महीनों में एयर इंडिया अपने 20,000 से अधिक कर्मचारियों को पेमेंट करने में नाकाम रही थी। 1 फरवरी को जारी बजट दस्तावेजों के अनुसार, सरकार एयर इंडिया के लोन को एक विशेष प्रयोजन में ट्रांसफर करने के लिए कुल 3,900 करोड़ रुपये देगी। सरकार एयर इंडिया को फिर से पुनर्जीवित करने के तरीकों पर काम कर रही है, बता दें कि कंपनी पर 55,000 करोड़ रुपये का कर्ज है।

 

Posted By: Nitesh