नई दिल्ली, पीटीआइ। इंडेक्स-हैवीवेट रिलायंस इंडस्ट्रीज, आईसीआईसीआई बैंक और एक्सिस बैंक में बढ़त के साथ इक्विटी बेंचमार्क सेंसेक्स बुधवार को शुरुआती कारोबार में 100 अंक से अधिक की उछाल देखने को मिली। शुरुआती कारोबार में 30 शेयरों वाला इंडेक्स 104.31 अंक या 0.18 फीसदी की तेजी के साथ 58,001.79 पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह निफ्टी 28.45 अंक या 0.17 फीसदी बढ़कर 17,261.70 पर पहुंच गया।

सेंसेक्स पैक में इंडसइंड बैंक लगभग 2 प्रतिशत की बढ़त के साथ शीर्ष पर रहा, इसके बाद डॉ रेड्डीज, आईसीआईसीआई बैंक, सन फार्मा, रिलायंस इंडस्ट्रीज और एक्सिस बैंक रहे। वहीं, दूसरी ओर पावरग्रिड, एनटीपीसी, टाटा स्टील, एचडीएफसी बैंक, नेस्ले इंडिया पिछड़ गए। पिछले सत्र में, 30-शेयर इक्विटी बेंचमार्क 477.24 अंक या 0.83 प्रतिशत बढ़कर 57,897.48 पर और निफ्टी 147.20 अंक या 0.86 प्रतिशत बढ़कर 17,233.45 पर बंद हुआ था।

स्टॉक एक्सचेंज के आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने मंगलवार को 207.31 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे और इसके साथ ही वह पूंजी बाजार में नेट बायर्स बन गए। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वीके विजयकुमार ने कहा कि ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर सरकारों और बाजार की प्रतिक्रिया में दो अलग-अलग रुझान हैं।

उन्होंने कहा कहा, "सरकारें, विश्व स्तर पर, सावधानी के साथ प्रतिक्रिया दे रही हैं और कुछ प्रतिबंध लगा रही हैं। भारत में भी महाराष्ट्र और दिल्ली ने बढ़ते मामलों के संदर्भ में कुछ प्रतिबंध लगाए हैं। लेकिन, बाजारों ने ओमिक्रॉन वेरिएंट को यह मानते हुए प्रतिक्रिया दी है कि यह महामारी के अंतिम चरण का प्रतीक है।"

उन्होंने आगे कहा, "बाजार के लिए एक मजबूत सकारात्मक बात यह है कि एफआईआई खरीदार बन गए हैं। यह वित्तीय, विशेष रूप से अग्रणी बैंकिंग शेयरों के लिए अच्छा संकेत है, जिनका मूल्यांकन अभी आकर्षक है। कच्चे तेल का बढ़ना एक मैक्रो हेडविंड है।"

एशिया की बात करें तो शंघाई, हांगकांग, सियोल और टोक्यो के शेयर मध्य सत्र सौदों में घाटे के साथ कारोबार कर रहे थे। वहीं, इनके अलावा रात के सत्र में अमेरिका में स्टॉक एक्सचेंज बड़े पैमाने पर नुकसान के साथ बंद हुआ। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.06 प्रतिशत बढ़कर 78.72 डॉलर प्रति बैरल हो गया।

Edited By: Nitesh