बेतिया। बिहार राज्य स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ की नरकटियागंज इकाई अपनी मांगों के समर्थन में बुधवार को अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। इस दौरान हड़ताली सफाई कर्मियों ने नगर परिषद के गेट पर जमकर प्रदर्शन किया और अपने हक के संबंध में नारे भी लगाए। इसके उपरांत नगर परिषद कार्यालय के पास सफाई कर्मचारियों ने बैठक की, जिसमें कहा कि बार बार नगर कार्यपालक पदाधिकारी से मांगों के समर्थन में पत्र दिया जाता रहा। लेकिन उनके द्वारा हम सफाई मजदूरों के हक के संबंध में कोई पहल नहीं की जा रही। जिससे आजिज होकर हम सफाई कर्मियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल का निर्णय लिया। हड़ताली कर्मचारियों ने नगर प्रशासन के खिलाफ भी जमकर नारेबाजी की और पदाधिकारी मुर्दाबाद के नारे लगाए । सफाई कर्मचारियों ने कहा कि अगर हमारी मांगे नहीं मानी गई तो अब उग्र आंदोलन होगा। नगर परिषद के सफाई व्यवस्था को ठप कर देंगे। बता दें कि सफाई कर्मियों ने नगर परिषद के समक्ष प्रमुख सात मांगे रखी हैं, जिसके लिए वे काफी दिनों से संघर्ष कर रहे हैं। उन मांगों में पीएफ की राशि को पारदर्शी बनाया जाए या अविलंब खाता में भेजा जाए, समान काम समान वेतन दिया जाय, संविदा के आधार पर बहाली की जाए, अतिरिक्त कार्य के लिए ओवर टाइम दिया जाए, बेलचा कुदाल आदि संसाधन मुहैया कराई जाए। कर्मचारियों ने यह भी कहा कि कुशल श्रेणी के चालक, सफाई कर्मी को अविलंब अति कुशल श्रेणी में जोड़ा जाए तथा सफाई कर्मी, चालक और जमादार को परिचय पत्र दिया जाए। हड़ताल के साथ कार्यालय पर प्रदर्शन करने वाले सफाई कर्मियों में अध्यक्ष मनोज राउत, किशोर राउत, विनोद मलिक, राकेश राउत, कन्हैया राम, नगीना राउत, संतोष राउत, उषा देवी, शीला देवी, पूनम देवी, दिलीप मलिक, जयप्रकाश गौड़, सुनील पासवान, रंजीत राउत, राजेन्द्र राम, नंदलाल राम, ¨पटू राम, गुलाबी देवी, सुनर पति देवी सहित कई सफाई कर्मी शामिल रहे । उधर सफाई कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने के बाद नगर प्रशासन में भी सरगर्मी बढ़ गई। अधिकारी और जनप्रतिनिधि हड़ताल को समाप्त कराने की पहल में लग गए। हालांकि समाचार भेजे जाने तक सफाई कर्मी हड़ताल पर अड़े हुए थे।

Posted By: Jagran