बेतिया । 12 सूत्री मांगों के समर्थन में विगत 7 सितंबर से जारी नगर निगम कर्मचारियों की अनिश्चितकालीन हड़ताल बुधवार को समाप्त हो गई है। एक्टू जिला सचिव रवींद्र रवि ने बुधवार को हड़ताल स्थगित होने की घोषणा की। हड़ताल खत्म होने के बाद नगर निगम के सभी कर्मचारी काम पर लौट गए । एक सप्ताह के बाद बुधवार को नगर निगम में काम शुरू हुआ। सफाई कर्मियों के भी काम पर लौट जाने के बाद शहर की सफाई शुरू हो गई है। जिससे शहरवासियों ने राहत की सांस ली है। कहा कि पिछले 07 सितंबर से लगातार जारी अनिश्चितकालीन हड़ताल से उत्पन्न स्थिति के संबंध में पटना उच्च न्यायालय द्वारा किए गए फैसला के आलोक में नगर निकायों कर्मचारियों ने अनिश्चित कालीन हड़ताल स्थगित करने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि उच्च न्यायालय ने वर्तमान हड़ताल पर किसी तरह की विपरीत टिप्पणी नहीं की है। मतलब, हड़ताल को स्वीकार किया है तथा निकाय कर्मियों की समस्याओं पर सुनवाई के लिए 21 अक्टूबर की तिथि निर्धारित किया है। श्री रवि ने कहा कि उच्च न्यायालय में निकाय कर्मियों की मांगों पर जवाब देते हुए सरकार की ओर से महाधिवक्ता ने न्यायालय के समक्ष कहा कि आठ सप्ताह के भीतर कर्मचारियों की मांगों पर नियमानुसार निर्णय ले लिया जाएगा। इसके अलावा कुछ अन्य आश्वासन के बाद हड़ताल स्थगित कर दी गई है।

--------------------------------------------------

शहर को स्वच्छ रखना हमारी जिम्मेदारी

हड़ताल वापस लेने के बाद निगम कर्मियों ने कहा कि पिछले एक सप्ताह के हड़ताल से वास्तव में शहर की स्थिति नारकीय हो गई है। उन्हें अफसोस है कि शहर की स्वच्छता के लिए समर्पित निगम कर्मियों को मजबूर होकर हड़ताल पर जाना पड़ा। इस वजह से एक सप्ताह तक शहरवासियों को परेशानी हुई। शहर को स्वच्छ रखने के प्रति अपनी जिम्मेदारी का जिक्र करते हुए निगम कर्मियों ने कहा कि 12 घंटे के अंदर शहर पूरी तरह से चकाचक होगा। युद्ध स्तर पर कर्मी सफाई कर शहर को फिर से स्वच्छ बना देंगे।

---------------------------------------------

निगम कर्मियों ने एकजुटता का लिया संकल्प

हड़ताल समाप्ति की घोषणा के दौरान आयोजित सभा में निगम कर्मियों ने एकजुटता का संकल्प लिया। कहा कि अधिकार लेने एवं शोषण से मुक्ति के लिए हमारी एकजुटता आवश्यक है। सभी कर्मी एकजुट रहेंगे तो शोषण के खिलाफ आवाज बुलंद होगी। एकजुटता भंग करने की साजिश हो रही है। ताकि कर्मियों का शोषण किया जा सके। इससे सतर्क रहना है।

Edited By: Jagran