पश्चिमी चंपारण। खरीफ फसल धान के बीज पर सरकार की तरफ से अनुदान सुनिश्चित है। जिसकी राशि के लिए किसानों का प्रखंड कृषि कार्यालय का चक्कर लगा लगा कर बुरा हाल हो गया है। अब इस राशि के लिए किसानों का सब्र कभी भी टूट सकता है। इसका कारण यह है कि बीते 2018-19 के जून व जुलाई में कृषकों ने कृषि विभाग की तरफ से वितरित अनुदानित दर पर धान के बीज प्रत्यक्षण के लिए उठाव किया था। अब रबी गेहूं आधा तैयार है। धान कट कर घरों में कब का आ चुका है। पर, किसानों को उनके अनुदान की राशि अबतक नहीं मिली है। इसके लिए आक्रोशित किसान कभी भी कृषि कार्यालय का घेराव कर सकते हैं। बता दें कि जिरो टिलेज, तनावरोधी व श्रीविधि धान प्रत्यक्षण के लिए इसके बीज प्रखंड को उपलब्ध कराए गए थे। जिसपर किसानों को अनुदान की बात बताई गई थी। जिससे किसानों ने बीज का उठाव किया।

-----------------------

परेशान हैं किसान

--------------------------

किसान श्रीप्रकाश साह का कहना है कि अगर समय से पैसा मिल जाता तो गेहूं व रबी फसल में मदद मिल जाती। इधर किसान सोहैल खान का कहना है कि कई बार प्रखंड कार्यालय का चक्कर काट लिया गया। आठ माह बीत गए परन्तु, राशि कब तक मिलेगी कोई बताता ही नहीं है। बता दें कि यह समस्या एक दो किसानों के साथ नहीं है। ऐसे किसानों की संख्या करीब 250 हैं। जिनको इस राशि का इंतजार है।

-----------------------

किस योजना में कितने हैं लाभुक

----------------------------

बता दें कि प्रखंड व नगर में जीरो टिलेज प्रत्यक्षण के लिए 100 किसानों को अनुदानित दर पर बीज दिया गया था। जिसकी राशि 3280 रुपये है। इसी तरह श्रीविधि के 75 किसान अनुदान की राशि 3280 व तनाव रोधी के लिए भी 75 किसानों को अनुदान देने हैं। जिसकी राशि 3220 रुपये प्रति किट है।

-------------------------

बयान : धान बीज के अनुदान से संबंधित राशि का आवंटन जिला को प्राप्त हो गया है। जल्द ही राशि किसानों के खाते में आ जाएगी।

तरुण कुमार मिश्रा, बीएओ

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस