बेतिया। गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज के निरीक्षण को एमसीआइ की टीम एक बार फिर यहां आएगी। चिकित्सकों, छात्र-छात्राओं, एवं संसाधनों से जुड़ी एक-एक व्यवस्था की पड़ताल करेगी। पिछले निरीक्षण के दौरान जिन ¨बदुओं पर टीम की ओर से आपत्ति दर्ज की गई थी, उसमें सुधार हुआ या नहीं इस पर भी टीम का जोर रहेगा। हालांकि, टीम कब आएगी इस संदर्भ में कोई भी अधिकारी कुछ बताने से परहेज कर रहे हैं, लेकिन विभागीय सूत्रों की मानें तो इसी सप्ताह में टीम के आने की प्रबल संभावना हैं। नतीजतन कॉलेज व अस्पताल प्रशासन अभी से ही अलर्ट हैं। एमसीआई से जुड़ी हर पहलुओं पर तैयारी शुरू कर दी गई हैं। चिकित्सकों एवं विभागाध्यक्षों के साथ बैठकों का दौर भी जारी हैं। बैठक के माध्यम से हर एक ¨बदुओं पर दिशा निर्देश जारी किया जा रहा हैं। विभागीय अधिकारी भी लगातार कॉलेज का दौरा कर फीडबैक प्राप्त कर रहे हैं। इस कड़ी में चिकित्सकों की संख्या के साथ-साथ लेक्चर थियेटर, लैब, लाइब्रेरी, ट्यूटर की संख्या बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा हैं। अल्ट्रासाउंड, सीटी स्कैन, एक्सरे, आइसीयू सहित कई व्यवस्थाएं बढ़ाई जा रही हैं। हालांकि इससे अपडेट होने में अभी समय लगेगा। बता दें कि नए सत्र में नामांकन की स्वीकृति देने से पूर्व एमसीआई की ओर से मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण किया जाता है। मानक पर खरा उतरने के पश्चात ही नामांकन की स्वीकृति प्रदान की जाती हैं। पिछले बार भी टीम की ओर से कॉलेज का निरीक्षण किया गया था। इस दौरान मानक से कोसों दूर कॉलेज की व्यवस्था से नाराज टीम की रिपोर्ट पर एमसीआइ ने तत्काल नामांकन पर रोक लगा दी थी। इसको लेकर कॉलेज प्रशासन से लेकर विभाग में हड़कंप मच गया। नतीजतन कॉलेज प्रशासन व विभाग की ओर से उच्चतम न्यायालय में हलफनामा देकर फिलहाल नामांकन की स्वीकृति देने का आग्रह किया गया। कोर्ट की हामी के बाद नामांकन तो हुआ लेकिन व्यवस्था..।

Posted By: Jagran