बेतिया। पुलिस अनुमंडल के गौनाहा थाना अंतर्गत महुआ भूषा गांव में बुधवार की शाम मामूली विवाद में दो गुट आपस में भीड़ गए। दोनों पक्षों के बीच जमकर लाठी दंडे चले और घटना रोड़ेबाजी तथा आगजनी में बदल गई। चार लोगों के घरों में आग लगा दी गयी। एक दूसरे के खिलाफ हमला में करीब डेढ़ दर्जन लोग घायल हुए। इनमें सात लोगों को गंभीर चोट लगने के कारण गौनाहा अस्पताल से बेतिया के लिए रेफर कर दिया गया। घटना की सूचना पर पुलिस पहुंची। एसडीओ अरविंद मंडल, एसडीपीओ अमन कुमार, डीसीएलआर इश्तेयाक अली अंसारी घटना स्थल पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। फिर अधिकारी घायलों को देखने अस्पताल भी पहुंचे। एसडीओ ने बताया कि गांव में शांति बहाल है। दोनों पक्ष के लोगों की एक बैठक बुलाई गई। शांति बनाए रखने के लिए दोनों पक्ष तैयार हैं। हालांकि गांव में आधा दर्जन थाना की पुलिस और जिला से पहुंचे पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई है। पुलिस गांव में गश्त लगा रही है। बताया जाता है कि बुधवार की शाम बच्चों के बीच विवाद शुरू हुआ। एक पक्ष के बच्चे द्वारा चलाए जा रहे सायकिल से दूसरे पक्ष के किसी व्यक्ति को ठोकर लगी। इस बात पर विवाद बढ़ा और गुटबाजी शुरू हो गई। इस घटना में धु्रव राम, मक्खन राम, जगदीश राम, तपेश्वर राम तथा शेख असलम का घर आग की भेंट चढ़ गयी। देखते हीं देखते एक दूसरे गुट पर लोग लाठी फट्ठा से हमला कर दिए। जमकर रोड़ेबाजी की घटना भी घटी। जिसमें करीब डेढ़ दर्जन लोग घायल हो गए। घायलों में एक पक्ष के नंदू राम, लालबाबु राम, कमलेश राम, कृष्णा राम, मोहन राम, मक्खन राम की पत्‍‌नी, मुनीलाल राम, अमरेश कुमार, धनंजय कुमार और दूसरे पक्ष के फुल मोहम्द अंसारी, मो गवाल, अफताब आलम, शेख बागड़, अरशद आलम, नूर शमां खातुन आदि घायल हो गए। पुलिस ने इस मामले में दोनों पक्ष की ओर से प्राथमिकी दर्ज करने की कार्यवाही की है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप