बगहा, जागरण टीम। बीते दिनों अवैध नर्सिंग होम के विरुद्ध किए गए छापेमारी में आधा दर्जन क्लीनिक को सील कर दिया गया है। इसके बाद से ही झोलाछाप में हड़कंप की स्थिति मची हुई है। इधर दूसरे प्रखंडों में चल रहे छापेमारी को देखते हुए अभी भी झोलाछाप भूमिगत हैं। नगर के जिन फर्जी क्लीनिक को सील किया गया है। उन के मरीज और कर्मियों का भी सुराग नहीं लग रहा है। मंगलवार को इसकी पड़ताल की गई। जिसमें यह बात सामने आई है कि सील फर्जी क्लीनिक पर किसी तरह की कोई गतिविधि नहीं है। इस पर से सभी तरह का बोर्ड हटा दिया गया है। किसी चिकित्सक का कहीं नाम नहीं लिखा है और ना ही संचालक का । कई जगह पेंट से लिखे नाम को मिटा दिया गया है।

इधर कई इनके मरीज दलालों के माध्यम से क्लीनिक पर तो पहुंच रहे हैं। पर, उन्हें झूठा आश्वासन देकर वापस किया जा रहा है। गांव से पहुंचे लखन महतो ने बताया कि एक क्लीनिक का बड़ा नाम सुना था। जब ढूंढते हुए आया तो, देखा कि ताला लटक रहा है। इतने में एक व्यक्ति आया। जिसने बताया कि चिकित्सक बाहर गए हुए हैं। यह आलम नगर के अन्य फर्जी क्लीनिकों का भी है। जहां इसी तरह से मरीजों को कोई ना कोई बहाना बनाकर वापस भेजा जा रहा है।  बीते दिनों कार्रवाई हुई है। यह अच्छी पहल भी है। पर, अगर सही तरह से विभागीय जांच की जाए तो, अभी भी आधा दर्जन ऐसे क्लीनिक है। जो नगर के विभिन्न मोहल्ले में संचालित हो रहे हैं। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा. चंद्रभूषण ने कहा कि ऐसे फर्जी नर्सिंग होम को चिन्हित किया जा रहा है। उनसे कागजातों की मांग की जाएगी। फर्जी पाए जाने पर क्लीनिकों को सील किया जाएगा।

Edited By: Mohammed Ammar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट