बगहा। बाढ़ के बाद जल-जमाव, टूटी पुल-पुलिया व सड़कों को लेकर लोगों की परेशानी बरकरार है। हालांकि बारिश का क्रम टूटने से गंडक, मसान, सिकरहना व हरहा नदी के जलस्तर में काफी गिरावट आई है। बाढ़ से प्रभावित दर्जनों गांव के लोगों की परेशानी बरकरार है। सरकार की तरफ से कोई राहत सामग्री नहीं मिलने से लोगों में आक्रोश व्याप्त है। पहले मसान नदी के द्वारा रायबारी महुअवा गांव के मोरवा टोला व झारमहूई में कटाव हुआ है। जिससे दर्जन भर लोगों की परेशानी बढ़ी थी। परंतु फिलवक्त पानी का स्तर लगातार गिरने से कटाव बंद है। सबसे अधिक नुकसान सड़क व पुल-पुलियों की हुई है। मसान नदी के बाद ने क्षेत्र में भयंकर तबाही मचाई। रायबारी महुअवा के मोरवा टोला के लगभग एक दर्जन लोगों का घर कटाव के कारण मसान में विलीन हो गया। वहीं झारमहूई के आधा दर्जन लोगों के खेत फसल समेत मसान में विलीन हो गए। रायबारी महुआवा के मोरवा टोला के तारीख यादव, घुरा यादव, कुनकुन यादव, प्रभु यादव, मनोज यादव, परमा यादव, लालबाबू यादव, इस्लाम खां आदि का घर मसान में विलीन हो गया। जिन्हें सरकारी सहायता के नाम पर मात्र प्लास्टिक सीट ही मिल सका है। सिसवा व बरवा के बीच का पुल मसान के बाढ़ में बहा बगहा एक प्रखंड के सिसवा और बरवा के बीच की सड़क पर बना पुल मसान नदी की बाढ़ में बह गया। लगगभग डेढ़ माह से ग्रामीण दो किलोमीटर अतिरिक्त दूरी तय करके गांव से बाहर निकल पाते हैं। जिसे देखने के लिए सांसद, विधायक व एमएलसी मौके पर पहुंचे तथा अविलंब पहल का आश्वासन दिया। लेकिन, अबतक कोई ठोस नतीजा नहीं निकला व परेशानी बरकरार है। वहीं टेसरहिया बथवरिया पंचायत के मकरी व मलाही टोला के बीच टूटी पुलिया दो माह से दर्जन भर गांव के लोगों के परेशानी का कारण बनी हुई है। हरदी नदवा, झारमहूई, सिसवा ,जमादार टोला समेत क्षेत्र के दर्जनों गांव की बाढ़ से टूटी सड़कें ग्रामीणों की परेशानी का कारण बनी हुई है। स्वयं सेवी संस्था समग्र शिक्षण व विकास संस्थान के द्वारा क्षेत्र के विभिन्न दर्जनों गांव में राहत पैकेट का वितरण किया। बगहा सुगर मिल के एमडी दीपक यादव की पहल पर भी राशन का वितरण हुआ है। वहीं सलाहा बरियरवा पंचायत के बरियरवा गांव निवासी व समाज सेवी अमित कुमार वर्मा ने सलाहा बरियरवा पंचायत के लगभग 1000 लोगों के बीच राहत सामग्री का वितरण किये हैं। हालांकि सड़कों की मरम्मत होनी शेष है।

Edited By: Jagran