बगहा। अस्पताल की व्यवस्था अब बदलने वाली है। ड्यूटी के प्रति लापरवाही बतरने वाले कर्मी हो या फिर चिकित्सक, प्रशासनिक अधिकारियों की नजर से बच नहीं पाएंगे। विभाग के द्वारा एक विशेष ऐप लांच करते हुए सभी चिकित्सा पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे स्वस्थ सेवा दर्पण नामक ऐप से चिकित्सक व कर्मियों की उपस्थिति प्रतिदिन विभाग को भेजे। यदि गड़बड़ी मिली तो फिर इसके लिए प्रभारी पदाधिकारी ही दोषी माने जाएंगे। विभागीय आदेश के आलोक में बुधवार को अनुमंडल के सभी स्वास्थ्य केंद्रों की जांच वरीय अधिकारियों के द्वारा की गई। इस दौरान शहरी पीएचसी की जांच को पहुंचे लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी रामजनम पासवान ने अस्पताल परिसर में गंदगी देखकर कड़ी नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने प्रभारी पदाधिकारी को निर्देश दिया कि प्रतिदिन अस्पताल की सफाई करावें, ताकि यहां आने वाले मरीजों को संक्रमण का खतरा न रहे। श्री पासवान ने बारी बारी से चिकित्सक व कर्मियों की उपस्थिति पंजी भी खंगाली। सभी कर्मी व चिकित्सक मौके पर उपस्थित पाए गए। श्री पासवान ने कहा कि कई ¨बदुओं पर प्रतिदिन रिपोर्ट देना अनिवार्य कर दिया गया है। अब ओपीडी में कितने मरीजों का इलाज हुआ और किस चिकित्सक ने ड्यूटी बजाई इसकी जानकारी भी अनिवार्य रूप से देनी होगी। वरीय पदाधिकारी ने दवाओं की उपलब्धतता पर संतोष प्रकट किया। कहा कि आम जरूरत की दवाओं की आपूर्ति एएनएम के माध्यम से क्षेत्र में भी कराई जाए। मौके पर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा. राजेश ¨सह नीरज समेत अस्पताल के कई कर्मी मौजूद थे। प्रभारी पदाधिकारी ने बताया कि जांच अधिकारी से अस्पताल का दायरा बढ़ाने की मांग की गई है। फिलहाल जगह के अभाव में एक्सरे, पैथोलॉजी जांच, कुष्ट जांच आदि के लिए केंद्रों की व्यवस्था नहीं हो सकी है।

Posted By: Jagran