बेतिया। कर्मचारी यूनियन के आह्वान पर बुधवार को बैंक कर्मी हड़ताल पर चले गए। इसके कारण करीब आधा दर्जन बैंकों में ताले लग गए। कई बैंकों में काम कर रहे अधिकारियों को शाखा से बाहर कर हड़ताली कर्मियों ने ताला जड़ दिया। नतीजतन अधिकांश बैंकों में पूरे दिन कामकाज नहीं हो सका। हड़ताल की वजह से करीब 25 करोड़ का कारोबार प्रभावित रहा। ग्राहक बैंक तो आए लेकिन उनका काम नहीं हो सका। हड़ताल का समर्थन पंजाब नेशनल बैंक, केनरा बैंक, सेंट्रल बैंक, इलाहाबाद बैंक सहित अधिकांश बैंकों का समर्थन प्राप्त था। नतीजतन इनकी शाखाओं में ताले लटके रहे। हालांकि भारतीय स्टेट बैंक हड़ताल में शामिल नहीं था। ग्रामीण बैंक के वैसे शाखाओं में कामकाज प्रभावित रहा जहां के कर्मी यूनियन में शामिल थे। शेष जगह सबकुछ सामान्य रहा। बैंक अधिकारियों के अनुसार हड़ताल का असर करीब 25 करोड़ के कारोबार पर पड़ा है। हड़ताली कर्मी विभिन्न बैंकों का विलय, वेतन समझौते में विलंब और बैंकों के खाली पदों को भरने में देरी को लेकर नाराज थे। बैंक कर्मियों ने कहा कि सरकार के गलत नीति की वजह से वे परेशान है। एक तो सरकार बैंकों के खाली पद को भर नहीं पा रही है, उपर से विभिन्न बैंकों का विलय कर कामकाज बढ़ा रही है। इस समय एक-एक बैंक कर्मियों पर खासा दवाब है। सरकार द्वारा यदि उनकी मांगों पर अविलंब विचार नहीं किया जाता है तो वे चरणबद्ध आंदोलन को बाध्य होंगे।

-------------------------------------------------------

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस