बेतिया। गौनाहा ऐतिहासिक सोफा मंदिर को बचाने के लिए बनाई जा रहे गाइड बांध और चैनल कई जगह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। पंडई नदी में आई बाढ़ के कारण गाइड बांध और चैनल कई जगह से टूट गया है। इससे अब फिर से सोफा मंदिर के पश्चिमी किनारा पर कटाव शुरू होने लगा है। बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा गत माह ही सोफा मंदिर का निरीक्षण किया गया था। पंडई नदी के कटाव को देखते हुए मुख्यमंत्री ने जल संसाधन विभाग को मंदिर के बचाने का निर्देश दिया। सोफा मंदिर के कार्यो का अवलोकन करने गत 17 जून को जल संसाधन मंत्री ललन ¨सह भी यहां पहुंचे। विभागीय अधिकारियों को आदेशित किया कि चैनल की लम्बाई बढ़ाकर मंदिर को बचाया जाए। उन्होंने कहा था कि सोफा मंदिर को बचाने के लिए इसी बैग और जीओ बैग से दो लेयर चौड़ा तथा चार लेयर ऊंचा बांध बनाया जाए। ताकि मंदिर को पंडई नदी के कटाव से बचाया जा सके। युद्ध स्तर पर विभाग द्वारा काम भी शुरू किया गया। विभागीय अधिकारी बताते हैं कि 1275 मीटर लम्बा, 50 मीटर चौड़ा और 3 मीटर ऊँचा चैनल बनकर तैयार हो गया था। लेकिन पंडई नदी में आई बाढ़ के कारण जगह-जगह से चैनल में करीब दो से ढाई सौ मीटर तक कट गया है। जिससे मंदिर पर फिर से कटाव का खतरा बढ गया है। दोमाठ की मुखिया अंतिमा देवी का कहना है कि बरसात के कुछ माह पहले अगर गाइड बांध और चैनल का निर्माण कर इसी बैग एवं जीओ बैग से सुरक्षा दिया गया होता तो चैनल भी बच जाता और मंदिर के कटाव की संभावना भी खत्म हो जाती।

इनसेट

एप्रोच पथ भी ध्वस्त

गौनाहा : जमुनिया नरकटियागंज मुख्य सड़क में जमुनिया बजार के समीप स्थित पुल का एप्रोच बुधवार को ध्वस्त हो गया है। मुखिया सुनिल कुमार गढवाल का कहना है कि पुल का दक्षिणी किनारे का एप्रोच ध्वस्त हो गया है। जिससे अब वाहनों के आवागमन पर असर पड़ने लगा है। समय रहते अगर एप्रोच पथ को दुरूस्त नहीं किया गया तो इस मार्ग पर पूरी तरह से आवागमन ठप हो जाएगा। जिससे प्रखंड का अनुमंडल कार्यालय से संपर्क भंग हो सकता है।

Posted By: Jagran