हाजीपुर, जागरण संवाददाता। डीएम यशपाल मीणा एवं एसपी मनीष ने संयुक्त रूप से बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता पुनर्परीक्षा के सफल आयोजन को लेकर बुलाई गई बैठक में संयुक्त ब्रीफिंग को संबोधित किया। इस मौके पर उपस्थित केंद्राधीक्षक, स्टैटिक दंडाधिकारी, प्रेक्षक, पुलिस पदाधिकारी, जोनल दंडाधिकारी, सुपर जोनल दंडाधिकारी आदि को शांतिपूर्ण एवं कदाचारमुक्त परीक्षा संपन्न कराने के लिए आवश्यक निर्देश दिए गए।

जिलाधिकारी ने बताया कि 30 सितंबर शुक्रवार को एक पाली में आयोजित होने वाली यह परीक्षा बहुत ही महत्वपूर्ण है। परीक्षा का आयोजन मध्याह्न 12 बजे दिन से 2 बजे तक जिले के 34 परीक्षा केंद्रों पर किया जाएगा। परीक्षा में 13,704 परीक्षार्थी भाग लेंगे। डीएम ने कहा कि आयोग के दिशा-निर्देश का शत-प्रतिशत अनुपालन करते हुए प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं केंद्राधीक्षक परीक्षा को शांतिपूर्ण एवं कदाचारमुक्त संपन्न कराना सुनिश्चित करेंगे।

सुरक्षा बलों की रहेगी विशेष तैनाती

परीक्षा संचालन एवं विधि-व्यवस्था संधारण के लिए आयोग के निर्धारित मानक के अनुरूप प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर 1-4 सशस्त्र पुलिस बल, महिला पुलिस बल, स्टैटिक दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी, जोनल दंडाधिकारी एवं सुपर जोनल दंडाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गई है। सभी प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं सशस्त्र बल परीक्षा प्रारंभ होने से 2 घंटा पूर्व अपनी प्रतिनियुक्ति स्थल ग्रहण कर लेंगे एवं परीक्षा के समाप्ति के बाद भी केंद्र पर उपस्थित रहकर विधि-व्यवस्था संधारित करेंगे।

जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि प्रतिनियुक्त पुलिस पदाधिकारी, जोनल दंडाधिकारी एवं सुपर जोनल दंडाधिकारी संबंधित केंद्रो पर भ्रमणशील रहकर परीक्षा को स्वच्छ, शांतिपूर्ण एवं कदाचारमुक्त संचालित करना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने कहा कि परीक्षा के सफल संचालन में सभी प्रतिनियुक्त पदाधिकारी एवं कर्मी विशेष सतर्कता रखते हुए अपनी जवाबदेही निभाऐंगे।

परीक्षा केंद्र के मुख्य द्वार पर ही केंद्राधीक्षक, प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी एवं पुलिस बल की सहायता से परीक्षार्थियों की शारीरिक जांच के बाद उनके प्रवेश पत्र को देख कर परीक्षा कक्ष में प्रवेश करेने देंगे।

परीक्षा केंद्रों पर लगेगा जैमर और सीसीटीवी कैमरे की निगरानी

जिलाधिकारी ने सभी परीक्षा केंद्रों पर जैमर लगाने का निर्देश दिया। परीक्षा केंद्र पर वीक्षकों की प्रतिनियुक्ति रेंडमाइजेशन के आधार पर की जाएगी। किसी भी पदाधिकारी एवं कर्मी के पास स्मार्ट फोन नहीं रहना चाहिए।केंद्राधीक्षक के पास साधारण फोन ही रहेगा। सभी परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरा लगाने एवं परीक्षा केंद्र की वीडियोग्राफी कराने का निर्देश दिया गया।

परीक्षा के दिन बंद रहेगी आसपास की फोटो स्टेट दुकानें

परीक्षार्थियों को परीक्षा कक्ष के अंदर मोबाइल, ब्लूटूथ, पेजर या अन्य इलेक्ट्रानिक डिवाइस चिट, चाकू, माचिस, ब्लेड आदि ले जाने पर पूर्ण प्रतिबंध होगा। उन्होंने दंडाधिकारी एवं केद्राधीक्षकों को निर्देश दिया कि परीक्षा में शामिल होने वाले सभी के लिए कोविड-19 से बचाव के लिए जारी दिशा-निर्देश का अनुपालन करना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने परीक्षा केंद्रों पर मूलभूत सुविधाएं, शौचालय, पेयजल, पर्याप्त लाइटिंग व्यवस्था कराने का भी निर्देश दिया। कदाचार के आरोप में गिरफ्तार किए गए अभिभावकों, परीक्षार्थियों एवं वीक्षकों के विरुद्ध बिहार परीक्षा संचालन अधिनियम 1981 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

सुबह नौ बजे से शाम छह बजे तक कार्यरत रहेगा नियंत्रण कक्ष

बीपीएससी संयुक्त परीक्षा सफल संचालन को लेकर जिला मुख्यालय में नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है। नियंत्रण कक्ष परीक्षा के दिन सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक दूरभाष संख्या 06224-260220 पर कार्यरत रहेगा। नियंत्रण कक्ष में आइसीडीएस जिला प्रोग्राम पदाधिकारी ललीता कुमारी प्रभारी पदाधिकारी (मो. 9931005039) तथा उनके सहयोग के लिए महिला हेल्पलाइन परियोजना प्रबंधक प्रियंका कुमारी (मो. 9801894576) एवं जिला योजना सहायक योजना पदाधिकारी अनु नेहा (मो. 9430891450) प्रतिनियुक्ति रहेंगी। उप विकास आयुक्त चित्रगुप्त कुमार (मो. 9431818357) और पुलिस उपाधीक्षक मुख्यालय देवेंद्र प्रसाद (मो. 8544428441) संपूर्ण व्यवस्था के वरीय प्रभार में रहेंगे।

Edited By: Chandra Bhushan Singh Shashi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट