वैशाली।

शंटिग के लिए ले जाये जा रहे इंजन का पहिया शनिवार की शाम सोनपुर के गोला बाजार के समीप रेल ट्रैक से उतर जाने कई गाड़ियों का परिचालन बाधित हो गया। इसकी सूचना कंट्रोल को दिए जाते ही रेल अधिकारियों में खलबली मच गई। आनन-फानन में मौके पर डीआरएम अनिल कुमार गुप्ता तथा एडीआरएम पीके सिन्हा समेत कई रेल अधिकारी पहुंच गए। इस बीच आनन-फानन में एआरटी के स्टाफ भी पहुंच गए। डीसीएम सीएस आजाद ने इस संबंध में पूछे जाने पर बताया कि यह घटना 8 नंबर लाइन पर घटित हुई। इसमें इंजन का एक पहिया पटरी से उतर उतर गया। दूसरी ओर सुरक्षा के मद्देनजर पटना से आने वाली 5201 रक्सौल इंटरसिटी गाड़ी घटना के बाद से लगभग पौने दो घन्टे तक आउटर सिगनल पर खड़ी रही। गाड़ी वहां रोके जाने के परिणामस्वरूप जैसे ही उक्त यात्रियों को इंजन के पटरी से उतरने की जानकारी मिली कि वे लोग ट्रेन से उतर कर अपने सामान के साथ ट्रैक पर पैदल ही सोनपुर स्टेशन पर जाते दिखाई दिए। जबकि अप पवन एक्सप्रेस एवं अवध आसाम एक्सप्रेस को सुरक्षात्मक ²ष्टिकोण से सोनपुर में रोक कर रखा गया। रात्रि के लगभग आठ बजे उक्त इंजन को पटरी पर लाते ही इधर गाड़ियों का परिचालन सामान्य हो गया। यह घटना क्यों घटित हुई इस पर कोई भी कुछ बोलने को तैयार नहीं था। रेलवे से जुड़े विश्वस्त सूत्रों के अनुसार उक्त ट्रैक की लगभग आधे दर्जन से अधिक पेंडिल क्लिप खुले हुए थे। जिस कारण ट्रैक का फैलाव उसके निर्धारित दायरे से अधिक हो गया था। जबकि उस समय उक्त लाइट इंजन 5.8 किमी के स्पीड से शेंटिग के लिए जा रहा था अगर मेन लाइन में यह पेंडल क्लिप खुले हुए होते तो किसी बड़े हादसे को टाला नहीं जा सकता था। हालांकि अब तो यह जांच पड़ताल में उभर कर सामने आएगा कि इस घटना का मुख्य कारण क्या था। यह घटना लगभग शाम के 5.15 मिनट पर घटित हुई। हूटर बजते ही मौके पर अधिकारियों एवं कर्मी पहुंच गए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस