वैशाली। हाजीपुर के गंगा ब्रिज थाना क्षेत्र के एक गांव में साइकिल सवार अज्ञात युवक ने बहला-फुसलाकर एक सात वर्षीय बच्ची को अपनी हवस का शिकार बना डाला। खून से लथपथ बच्ची को लेकर परिजन जब सदर अस्पताल पहुंचे तो वहां चिकित्सकों ने बगैर एफआइआर दर्ज कराए इलाज करने से साफ इन्कार कर दिया।

मिली जानकारी के अनुसार अपने नाना के यहां रह रही सात वर्षीय बच्ची घर के बगल में स्थित सरकारी विद्यालय में पढऩे गई थी। बच्ची का चप्पल घर में ही छूट गया था, जिसे लाने के लिए वह घर जा रही थी।

इसी दौरान एक साइकिल सवार युवक ने घर पहुंचाने का झांसा देकर उसे साइकिल पर बैठा लिया और गंगा नदी के किनारे स्थित झाड़ी में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद वह बच्ची को झाड़ी में ही छोड़कर फरार हो गया।

बच्ची के रोने की आवाज सुनकर एक महिला वहां पहुंची। उसने उसे झाड़ी से बाहर निकाला। सूचना पाकर घर से निकल चुके परिजन बच्ची को महात्मा गांधी सेतु से लेकर सदर अस्पताल पहुंचे, लेकिन अस्पताल में चिकित्सकों ने इलाज करने से इन्कार कर दिया गया।

चिकित्सकों का कहना था कि बगैर एफआइआर दर्ज कराए वे इलाज नहीं करेंगे। इसके बाद खून से लथपथ नन्हीं बच्ची को उसी हालत में लेकर परिजन नगर थाना पहुंचे। वहां से नगर थाना पुलिस बच्ची को इलाजके लिए सदर अस्पताल लाई, तब उसका इलाज आरंभ हुआ। बच्ची की स्थिति गंभीर बतायी गयी है।

आरोपी युवक की पहचान नहीं हो सकी है, हालांकि वह गांव का ही बताया जा रहा है।

Edited By: Amit Alok