वैशाली। हाजीपुर नगर परिषद का वार्ड नंबर 15 कई मायनों में काफी महत्वपूर्ण है। वार्ड में सड़क व स्ट्रीट लाइट की बात करें तो इसकी स्थिति काफी बेहतर कही जा सकती है, लेकिन सफाई के मुद्दे पर इसकी कहानी भी नगर परिषद क्षेत्र के अन्य वार्डो से काफी मिलती-जुलती है। नियमित रूप से साफ-सफाई का वार्ड में घोर अभाव दिखता है। वार्ड के कई मोहल्ले में यत्र-तत्र कचरे का ढेर फैला हुआ है। जलनिकासी की बेहतर व्यवस्था नहीं होने की वजह से नाले का पानी सड़क पर बहते रहता है।

लोगों की माने तो सफाईकर्मी इस वार्ड में नियमित रूप से साफ-सफाई के लिए आते ही नहीं है। डोर-टू-डोर कचरा उठाने की व्यवस्था भी लंबे समय से बंद थी। एक पखवाड़ा पूर्व से दुबारा डोर-टू-डोर कचरा उठना शुरू हुआ है। लोगों के बीच डस्टबिन का वितरण भी किया गया है। बिजली के खंभों पर स्ट्रीट लाइट लगे हुए हैं। यहां के लोग सभापति पर अपने कुछ खास लोगों को विकास योजनाओं का लाभ पहुंचाने का भी आरोप लगाते हैं।

शुद्ध पेयजल व नाले की नहीं है व्यवस्था

हाजीपुर नगर परिषद के वार्ड नंबर 15 की एक बड़ी आबादी शुद्ध पेयजल की समस्या से जूझ रही है। यहां वाटर सप्लाई की व्यवस्था काफी बुरी है। वाटर सप्लाई के लिए लगभग तीन दशक पूर्व पाइप लाइन बिछाए गए थे लेकिन लोगों के घरों तक सप्लाई का पानी नहीं पहुंच सका। कुछ जगहों पर चापाकल जरूर लगाए गए हैं। कुछ ऐसी ही समस्या जल निकासी की है। वार्ड में कुछ जगहों पर नाला तो है लेकिन उनका मुख्य नाला से कनेक्शन नहीं होने वजह से घरों से निकलने वाला गंदा पानी नाला में पड़ा रहता है। कई जगहों पर नाले का गंदा पानी सड़क पर यूं ही बहता रहता है। बरसात में लोगों की परेशानी काफी ज्यादा बढ़ जाती है। जलनिकासी की बेहतर व्यवस्था नहीं होने से जलजमाव की समस्या उत्पन्न हो जाती है। कई लोगों के घरों में भी पानी प्रवेश कर जाती है।

क्या कहते हैं सभापति

वार्ड नंबर 15 ही नहीं बल्कि नगर परिषद क्षेत्र के सभी वार्डो में साफ-सफाई की बेहतर व्यवस्था की गई है। सफाईकर्मी नियमित रूप से साफ-सफाई करते हैं। लोगों के घरों तक सप्लाई का पानी पहुंचाने के लिए बिहार राज्य जल पार्षद ने 38 करोड़ का टेंडर किया है। पाइप भी आने शुरू हो गए हैं। जलनिकासी के लिए नाला का डीपीआर बनाया गया है। हर गली के पक्कीकरण के साथ नाला निर्माण की योजना है। जल्द ही इस पर तेजी से काम भी होगा।

- हैदर अली, सभापति

नगर परिषद हाजीपुर।

हाल-ए-बयां

- जल निकासी के लिए वार्ड में नाले का न होना एक बड़ी समस्या है। साफ-सफाई की स्थिति भी काफी अच्छी नहीं है। इस वार्ड के लोगों के घरों तक वाटर सप्लाई की कोई व्यवस्था नहीं है।

- विनय चंद्र झा, अधिवक्ता

- वार्ड में बच्चों के खेलने के लिए पार्क की व्यवस्था नहीं है। पार्क नहीं होने से बच्चे आउटडोर खेलों का आनंद नहीं ले पाते हैं। बरसात में जलजमाव से लोगों को काफी परेशानी होती है।

- राकेश कुमार

- इलाके में साफ-सफाई की स्थिति काफी बुरी है। नियमित रूप से साफ-सफाई नहीं होने से कई जगह पर कूड़े का ढेर लगा रहता है। नाला की यहां बेहतर व्यवस्था नहीं है।

- डॉ. सतीश कुमार ¨सह

- वार्ड में साफ-सफाई की स्थिति पहले से बेहतर है। प्रत्येक घर में डस्टबिन का वितरण किया गया है। यहां की सबसे बड़ी समस्या जल निकासी के लिए नाला का न होना है।

- रंजन पाठक

- कई जगहों पर नाले का पानी ओवर फ्लो कर सड़क पर बह रहा है, इसके लिए नाले को बेहतर बनाने पर ध्यान देना चाहिए। साफ-सफाई की स्थिति भी अच्छी नहीं कही जा सकती।

- सहदेव राउत

- वार्ड में सड़क व साफ-सफाई की स्थिति तो अच्छी है, लेकिन शुद्ध पेयजल की समस्या बनी हुई है। इलाके में वाटर सप्लाई की बेहतर व्यवस्था होनी चाहिए।

- मो. कलाम

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप