जागरण संवाददाता, हाजीपुर :

इंडो तिब्बत बार्डर पुलिस फोर्स के तत्वावधान में 75वीं आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर आइटीबीपी के जवानों की साइकिल यात्रा का हाजीपुर में महुआ मोड़ पहुंचने पर विधायक अवधेश सिंह ने स्वागत किया। यह यात्रा ईटानगर से चलकर राजघाट दिल्ली तक करीब 3000 हजार किलोमीटर जाने वाली है। टीम के हाजीपुर पहुंचने पर विधायक ने सभी सदस्यों को माला पहनाकर एवं चंदन लगाकर स्वागत किया। युवा मोर्चा सदस्यों के साथ विधायक स्वयं साइकिल चलकर महुआ मोड़ से सर्किट हाउस हाजीपुर तक पहुंचे।

इसके बाद स्थानीय आरएन कालेज सभागार में कार्यक्रम आयोजित की गई। प्राचार्य डा. रवि कुमार सिन्हा ने टीम के सदस्यों को गुलदस्ता भेंट किया। इस मौके पर डा. उमा पाठक, डा. सुमन सिन्हा, डा. कविता सिंह, डा. रूपा लक्ष्मी आदि के साथ सांस्कृतिक समिति के विद्यार्थियों ने कालेज गीत एवं स्वागत गीत प्रस्तुत किया। प्राचार्य ने अपने संबोधन में आईटीबीपी के योगदान की प्रशंसा करते हुए राष्ट्रप्रेम, त्याग, साहस और अनुशासन के जीवंत प्रतीक स्वरूप सेना के जवानों को छात्रों के लिए अनिवार्य आदर्श बताया।

कार्यक्रम में आईटीबीपी डिप्टी कमांडेंट अभिनव विकास वर्धन एवं मेडिकल आफिसर डा. एम भारत ने छात्रों को संबोधित करते हुए देश की सुरक्षा में सेना के अहम योगदान पर चर्चा की। टीम ने उपस्थित छात्रों को दो वीडीयो दिखाकर बताया कि देश की सुरक्षा कर रही आईटीबीपी की टीम कितनी कठिन परिस्थिति में संयम एवं अनुशासन से काम करती है। विधायक ने कहा कि इनका उद्देश्य गांव-गांव में बच्चों को जागरूक करना एवं देश की सेवा में अपना योगदान देना है।

प्रश्नकाल सत्र में छात्रों ने भर्ती की प्रक्रिया, प्रशिक्षण, सेना के जवानों के सामने आने वाली चुनौतियों आदि के बारे में जानना चाहा। सेना के जवानों ने अपने रोमांचक अनुभवों को छात्रों के साथ साझा किया। इस क्रम में अनुशासन और एकाग्रता के महत्व की चर्चा करते हुए कहा कि इनके आधार पर किसी भी लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। टीम ने यहां पौधरोपण किया तथा सैनेटाइजेशन का सामान वितरित किया।

इससे पूर्व जिले के भगवानपुर प्रखंड के अड्डा चौक पर भाजपा अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष अजित कुमार गब्बर के नेतृत्व टीम का भव्य स्वागत किया गया।

Edited By: Jagran