सुपौल। गरीब परिवारों को बेटी की शादी में परेशानी नहीं हो इसके लिए सरकार कन्या विवाह योजना के तहत मदद देती है, लेकिन कई लाभुकों को इसका फायदा नहीं मिल पा रहा है। ऐसे लाभुक पिछले पांच वर्षो से योजना का लाभ पाने के लिए कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं।

कन्या विवाह योजना अंतर्गत नवविवाहितों को पांच हजार रुपये की आर्थिक सहायता सरकार की ओर से दिए जाने का प्रावधान है। भगवानपुर पंचायत के मुखिया जयप्रकाश पासवान ने बताया कि उनके यहां एक दर्जन के आसपास लाभुक हैं, जिन्होंने छह साल पूर्व आवेदन किया और आज भी उनको लाभ का इंतजार है।

---------------------------------------------

क्या है योजना

गरीबी बेटी की शादी में रोड़ा न बने इसके लिए सरकार मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना चला रही है। इसके तहत नवविवाहिता को पांच हजार रुपये दिए जाते हैं। इस राशि को पाने के लिए कन्या पक्ष के माता-पिता को प्रखंड में शादी का निबंधन कराना पड़ता है। निबंधन के बाद कन्या के स्वजन को ऑनलाइन आवेदन करना पड़ता है। जांच के बाद प्रखंड कार्यालय से पांच हजार रुपये का चेक कन्या के नाम से जारी किया जाता है।

-----------------------------------

आवंटन पर भारी पड़ रहा आवेदन

योजना के शुरुआती दिनों से ही विडंबना रही है कि प्रखंड में जिस अनुपात से निबंधन आता है, उस अनुपात में राशि उपलब्ध नहीं कराई जाती है। परिणाम होता है कि इस राशि को पाते-पाते वर्षों गुजर जाते हैं। आज के तारीख में सैकड़ों कन्याओं का भुगतान आवंटन के अभाव में लंबित है।

------------

-कोट

प्रखंड में अब सिर्फ निबंधन किया जाता है। राशि ऊपर के स्तर से सीधे लाभुक के खाते में डाली जाती है। जिन लाभुकों के आवेदन में कोई तकनीकी गड़बड़ी है, उनका ही भुगतान बकाया है।

देवनानंद कुमार सिंह

आरडीओ, बसंतपुर

-----------

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप