जागरण संवाददाता, सुपौल: सदर अस्पताल परिसर में लगाये जाने वाला आक्सीजन प्लांट मौजूदा माह के अंत तक काम करना शुरु कर देगा। इस आक्सीजन प्लांट के काम करने से यहां के मरीजों को सीधे बेड पर आक्सीजन मिलना शुरू हो जाएगा। मालूम हो कि कोरोना की दूसरी लहर ने ऐसा कहर बरपाया कि आक्सीजन को ले देश के विभिन्न भागों में हाय-तौबा मची रही। अब तीसरी लहर की चिता सता रही है। ऐसे में सदर अस्पताल परिसर में दो आक्सीजन प्लांट कुछ दिनों में काम करना भी शुरु कर देगा। इस प्लांट में से एक डीआरडीओ के सौजन्य से एनएचएआइ द्वारा तथा दूसरा भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग मंडल (एएसएसओसीएचएएम) के सौजन्य से लगाया जा रहा है।

---------------------------------------------------

अंतिम पड़ाव पर है काम

सदर अस्पताल में लगने वाले दोनों आक्सीजन प्लांट का काम अब अंतिम पड़ाव पर है। एक आक्सीजन प्लांट का जेनरेटर आना बांकी है तो दूसरे में कुछ मशीन लगाने की जरूरत है। हालांकि दबी जुबान यह भी चर्चा है कि आक्सीजन प्लांट को चलाने वाले कर्मी की अबतक व्यवस्था नहीं हो पायी है। मालूम हो कि 2,420 वर्ग किमी क्षेत्रफल वाले सुपौल जिले की आबादी लगभग 27 लाख है। कोसी प्रभावित क्षेत्र होने के कारण यहां का अधिकांश भू-भाग दुरूह क्षेत्र माना जाता है। इस जिले में एक सदर अस्पताल, एक रेफरल अस्पताल, तीन अनुमंडलीय अस्पताल, 10 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, एक राजकीय औषधालय, 21 अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं 178 उप स्वास्थ्य केंद्र हैं। इतना सब कुछ के बावजूद यहां हर किसी को स्वास्थ्य सेवा मयस्सर नहीं है। ऐसे में तीसरी लहर के दौरान हर मरीज को दोनों आक्सीजन प्लांट का लाभ कितना मिल पाएगा यह वक्त आने पर ही पता चलेगा।

---------------------------------------------------

चल रहा पाईप लाइन का काम

सदर अस्पताल में भर्ती मरीजों को बेड तक आक्सीजन पहुंचाने के बाबत फिलहाल पाईप लाइन का काम जोरशोर से चल रहा है। पाईप लाइन का अधिकांश काम भी पूरा कर लिया गया है। जो काम बांकी है उसे जल्द ही पूरा कर लेने की बात कही जा रही है। आक्सीजन प्लांट के चालू होने से मरीजों को काफी हद तक राहत मिलेगी।

-------------------------------------------------------

कहते हैं अधिकारी

इस माह में आक्सीजन प्लांट काम करने लगेगा। फिलहाल पाईप लाइन का काम हो रहा है और 41 बेड तक पाईप लाइन का काम हो गया है। उतने बेड तक आक्सीजन पहुंचाने का काम शुरु कर दिया जाएगा। उसके बाद जैसे-जैसे पाईप लाइन का काम बढ़ता जाएगा वैसे-वैसे बेड तक आक्सीजन पहुंचाया जाएगा।

डा.इन्द्रजीत प्रसाद,

सिविल सर्जन, सुपौल

Edited By: Jagran