- 11 जनवरी को नेपाल घूमने जाने की बात की घर से निकला था युवक संवाद सूत्र राघोपुर (सुपौल): थाना क्षेत्र के पिपराही पंचायत के दुर्गापुर वार्ड नंबर 15 स्थित गम्हरिया उपशाखा नहर में शनिवार की अल सुबह एक युवक का शव मिलने से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। नहर में शव की सूचना मानो जंगल में आग की तरह फैल गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर अंत: परीक्षण के लिए सुपौल भेज दिया। प्राप्त जानकारी अनुसार स्थानीय कुछ ग्रामीणों ने शनिवार की सुबह नहर पर मार्निंग वाक पर निकला तो देखा कि नहर में एक शव पड़ा हुआ है। नजदीक जाने से पता चला कि शव का हाथ और पैर रस्सी से बांधा हुआ है , वहीं चेहरे पर तेजाब डाला हुआ है। शव को देखने के बाद स्थानीय ग्रामीणों ने घटना की सूचना राघोपुर पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच शव को थाना लाया। थाना में शव पहुंचने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल सुपौल भेज दिया गया।

शव मिलने की खबर फैलने लगी। शनिवार की दोपहर किसनपुर थाना क्षेत्र के बनैनिया गांव से कुछ लोगों ने राघोपुर थाना पहुंचकर शव की शिनाख्त बनैनिया वार्ड नंबर15 निवासी गुदर राम के 35 वर्षीय पुत्र विद्यानन्द राम के रूप में की। मृतक का चचेरा भाई हरेराम राम और पिता गुदर राम ने बताया कि विद्यानंद राम बीते 11 जनवरी को कटिहार जिला के अजय नगर थाना क्षेत्र के मरंगा गांव वार्ड नम्बर 5 निवासी मो. तौफीक के साथ घर से नेपाल घूमने जाने की बात कहकर निकला था। बताया कि तौफीक ने ही नेपाल घूमने के नाम पर घर से उसे भी अपने साथ ले गया था। लेकिन एक दिन बाद भी जब वह घर नहीं पहुंचा तो दूसरे दिन शाम को उनलोगों ने विद्यानंद के मोबाइल पर फोन किया तो मोबाइल स्विच आफ था। उसके बाद उनलोगों ने तौफीक के मोबाइल पर फोन किया तो तौफीक ने बताया कि वह घर नहीं पहुंचा है। बताया कि उसने विद्यानंद को सिमराही में ही छोड़ दिया था। मृतक के स्वजनों ने बताया कि मो. तौफीक सिमराही बाजार में एक फाइनेंस कंपनी में काम करता है। वह अक्सर बनैनिया गांव पहुंचकर वहां महिलाओं का समूह बनाकर समूह में लोन देने का काम करता था। इसी दौरान लगभग तीन चार महीना से तौफीक का विद्यानंद से जान पहचान हो गया था। जिसे लेकर अक्सर वह विद्यानन्द के घर पर पहुंचकर समूह की महिलाओं की बैठक करता था। जब मृतक विद्यानन्द घर नहीं पहुंचा तो वे लोग 13 जनवरी को सिमराही बाजार स्थित उक्त फाइनेंस कंपनी के ब्रांच पहुंचकर तौफीक से पूछताछ कर उसे अपने गांव बनैनिया ले गया। जिसके बाद उसे पकड़कर किसनपुर थाना में ले जाकर आवेदन दिया। लेकिन किसनपुर थाना की पुलिस ने उनलोगों से आवेदन लेने से मना कर दिया। जिसके बाद वे लोग अपने स्तर से उसकी खोजबीन करने लगे, लेकिन कुछ पता नहीं चला। बताया कि शनिवार को लोगों से सूचना मिली कि राघोपुर पुलिस के द्वारा एक शव बरामद किया गया है। जिसके बाद वे लोग जब राघोपुर थाना पहुंचकर शव की शिनाख्त किया है। स्वजनों ने मो. तौफीक पर हत्या का आरोप लगाया।

Edited By: Jagran