अनुसूचित जाति/जनजाति/ओबीसी/अल्पसंख्यक संयुक्त मोर्चा द्वारा बुधवार को शहर में प्रतिवाद मार्च निकाला गया। प्रतिवाद मार्च महादेवा रोड स्थित वीएम हाईस्कूल सह राजकीय इंटर कॉलेज परिसर से निकलकर कचहरी रोड, अस्पताल चौक, बबुनिया मोड़, दरबार रोड होते हुए जेपी चौक पर पहुंचकर सभा में तब्दील हो गया। इस दौरान कार्यकर्ता सरकार विरोधी नारे लगा रहे थे। संघर्ष मोर्चा के कार्यकर्ता राजदेव बौद्ध के नेतृत्व में जेपी चौक पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला दहन किया। सभा को संबोधित करते हुए राजदेव बौद्ध ने कहा कि देश में केवल मूलनिवासियों का ही अधिकार होना चाहिये। वहीं शिक्षक नेता मंगल साह ने कहा कि बहुजन अपनी एकता के बल पर ही सत्ता पर कब्जा कर सकती है। सचिव रामसागर पासवान ने कहा कि जितना ही दलितों पर अत्याचार करेंगे, उतना ही दलित एकता मजबूत होगा। इस दौरान सभी कार्यकर्ताओं ने सरकार व जिला प्रशासन से मांग किया कि रघुनाथपुर में बाबा साहब डा. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा को अपमानित करने वालों की अविलंब गिरफ्तारी कर सख्त से सख्त सजा दी जाए, ताकि आने वाले समय में कोई भी इस तरह के अपमानजनक कार्य करने से डरें। मौके पर योगेंद्र बैठा, ओमप्रकाश राम, नंदजी राम, चंद्रमा पासवान, नागेंद्र मांझी, बाल्मिकी प्रसाद, गणेश राम, शंकर प्रसाद यादव, संतोष कुमार पासवान, जफर अली, इस्तेखार आलम, आलोक बाघ, संजय दिवाकर, जयशंकर पंडित, विकास यादव, द्वारिका राम समेत सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे।

Posted By: Jagran