सिवान । डीआरएम विजय कुमार पंजियार एवं रेल संरक्षा आयुक्त मो. लतीफ ने शनिवार को दारौंदा-महाराजगंज-मशरख विद्युतीकरण कार्य का निरीक्षण किया। स्पेशल ट्रेन पर सवार दोनों अधिकारियों ने जगह-जगह रुक कर रेलखंड की गहराई से जांच की। इस दौरान सीआरएस ने बताया कि रेल विद्युतीकरण शुरू करने के लिए निरीक्षण किया जा रहा है। एक सप्ताह में रिपोर्ट रेल मंत्रालय को भेजी जाएगी। इसके स्वीकृति मिलने पर रेल खंड पर ट्रेन चलेगी। उन्होंने बताया कि दारौंदा-महाराजगंज-मशरख रेल खंड पर ट्रेन का परिचालन शीघ्र शुरू हो जाएगा। इसके बाद अधिकारी दारौंदा के बसवरिया टोला, उजांय, रामापाली आदि होते हुए महाराजगंज स्टेशन पहुंचे। निरीक्षण के दौरान मंडल रेल प्रबंधक विजय कुमार पंजियार, चीफ इलेक्ट्रिकल इंजीनियर संतोष वैरवा, चीफ इंजीनियर निर्माण आशुतोष मिश्रा, सीनीयर डिविजनल इंजीनियर जितेंद्र कुमार, सीनियर सेक्शन इंजीनियर उपेंद्र सिंह, सीनियर सेक्शन इंजीनियर विपिन सिंह आदि उपस्थित थे। दारौदा से मशरख तक की दूरी 42 किलोमीटर

संसू, दारौंदा (सिवान) : दारौंदा जंक्शन से मशरख तक की दूरी 42 किलोमीटर है। अब इस रेलखंड पर इलेक्ट्रिक ट्रेन चलने से करीब चार प्रखंड के करीब तीन सौ गांव के लोगों को सुविधा मिलेगी। पदाधिकारियों द्वारा इस रेलखंड का निरीक्षण किए जाने से लोगों में काफी उत्साह देखने को मिला। अनुमति मिलने के बाद महाराजगंज- मशरख सवारी गाड़ी का होगा परिचालन संस, महाराजगंज (सिवान) : छपरा-दरौंदा-सिवान-महाराजगंज-मशरख सवारी गाड़ी का परिचालन रेल मंत्रालय से स्वीकृति के बाद शुरू किया जाएगा। यह बातें डीआरएम विजय कुमार पंजियार ने महाराजगंज रेलवे स्टेशन पर पत्रकारों से कही। उन्होंने कहा कि कोविड-19 का वैक्सीन शुरू हो गया है। महाराजगंज-मशरख के बीच तीन क्रॉसिग स्टेशन बनाया गया है। इसका निरीक्षण रेल संरक्षा आयुक्त सहित अनेक इंजीनियरों की टीम द्वारा दारौंदा से मशरख तक विद्युतीकरण कार्य का निरीक्षण किया गया है। इसकी रिपोर्ट रेल मंत्रालय को सौंपी जाएगी। मंजूरी मिलने के बाद इस खंड पर इलेक्ट्रिक ट्रेन का परिचालन शुरू कर दिया जाएगा।

Edited By: Jagran