सिवान: जिला परिषद के सभागार में 25 मार्च को हुई जिप की विशेष बैठक में सभी सदस्यों को नहीं बुलाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। कुछ सदस्यों ने बैठक की सूचना नहीं दिए जाने की शिकायत सारण आयुक्त से की है। शिकायत करने वाले सदस्यों के पत्र की छायाप्रति संलग्न कर आयुक्त ने पत्र जारी कर वर्णित विषय वस्तु पर जांचोंपरांत नियमानुसार कार्रवाई करने कर तीन दिनों कें अंदर प्रतिवेदन की मांग की है। बता दें कि 25 मार्च को बैठक संपन्न होने के बाद 26 मार्च को पत्रांक 22, दिनांक 26 मार्च को बिहार विधान सभा सदस्य 110 बड़हरिया बच्चा पांडेय, बिहार विधान परिषद सदस्य टुन्ना पांडेय के पत्रांक 171-21, दिनांक 26 मार्च व गुठनी प्रखंड प्रमुख कामोद प्रसाद नारायण सिंह के पत्रांक 27, दिनांक 26 मार्च को सारण प्रमंडल के आयुक्त को पत्र भेजकर शिकायत की थी।

जिला अभियता ने मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी को भेजा शोकॉज का जवाब

जिला परिषद में जिला अभियंता के पद पर कार्यरत धनंजय मणि तिवारी को जिला परिषद के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी सह उप विकास आयुक्त दीपक कुमार सिंह ने सात अप्रैल को शोकॉज किया था। साथ ही उसका जवाब एक सप्ताह के अंदर मांगा था। इसका जवाब जिला अभियंता ने दे दिया है। दिए गए जवाब में जिला अभियंता ने 25 मार्च को हुई जिला परिषद की विशेष बैठक को असवैंधानिक बताया है। साथ ही कहा है कि जिला अभियंता के पद से सेवा निवृत होने के उपरांत पंचायती राज विभाग के तत्कालीन दिशा निर्देशों के अनुरूप सभी आहर्ताओं को पूरा करने पर मेरा अनुबंध सेवा विस्तार किया गया था। सेवा विस्तार के लिए आवश्यकता अनुरूप मेरे चिकित्सक ने स्वास्थ्य प्रमाण पत्र दिया था। मेरे द्वारा इस आशय का शपथ पत्र दिया गया था कि सेवानिवृत्त अथवा अनुबंध पर सेवा विस्तार की तिथि को मेरे ऊपर कोई विभागीय कार्रवाई नहीं चल रही है। यह पूर्णत: सत्य है।