सीतामढ़ी। बिहार गृह रक्षा वाहिनी (होमगार्ड) और बिहार अग्निशमन सेवाएं के महानिदेशक आइपीएस अधिकारी आरके मिश्रा ने कहा कि सूबे के सभी होमगार्ड जवानों को नवंबर से प्रत्येक माह की पहली तारीख को मानदेय का भुगतान किया जाएगा। नई व्यवस्था के तहत हर माह की 20 तारीख से अगले माह की 21 तारीख को एक महीना माना जाएगा। 21 तारीख से वेतन विपत्र बनाने का काम शुरू होगा और पहली तारीख को भुगतान होगा। सीतामढ़ी दौरे पर पहुंचे डीजी ने होमगार्ड कार्यालय में मीडिया से बातचीत में कहा कि अब अन्य सरकारी कर्मियों के साथ ही होमगार्ड जवानों का भुगतान होगा। कहा कि विधि-व्यवस्था, बैंक, दूरसंचार और अन्य सरकारी कार्यालयों में प्रतिनियुक्त जवानों के लिए भी यही व्यवस्था शुरू की जाएगी। संबंधित विभाग को जवानों के मानदेय मद की राशि ससमय विभाग को उपलब्ध कराने के लिए अपील की गई है। बहुत जल्द व्यवस्था बदली नजर आएगी। उन्होंने कहा कि वे सूबे के सभी जिलों का दौरान कर होमगार्ड और अग्निशमन विभाग की स्थितियों का जायजा ले रहे हैं। इस दौरान जवानों के भोजन, आवासन और शौचालय आदि की व्यवस्था उनकी प्राथमिकता में शामिल है। उन्होंने कहा कि यहां आने का मकसद जवानों की परेशानी का निदान कराना है। हम समस्याओं को परिभाषित कर रहे हैं। कहा कि मेरा मानना है कि समस्याएं परिभाषित हो जाए तो उनका समाधान निकल जाता है। उन्होंने कहा कि सूबे के विभिन्न होमगार्ड कार्यालयों का निरीक्षण किया है। इस दौरान पाया गया है कि जवानों के रहने, भोजन और शौचालय आदि की सुविधाओं में थोड़ी कमी है। सुविधाओं में सुधार लाना है। कहा कि ड्यूटी पर मृत होमगार्ड जवानों के आश्रितों को अनुकंपा के आधार पर नियोजन उनकी प्राथमिकता है। अब तक बिहार में 300 मृत होमगार्ड जवानों में से 86 का नियोजन हो चुका है। 214 का नियोजन किया जाना है। सीतामढ़ी में भी आठ जवानों के आश्रित का नियोजन करना है। इनमें तीन के नियोजन की कागजी प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है। जिन्हें इस माह के अंत तक नियोजन का लाभ मिल जाएगा। शेष पांच की प्रक्रिया लंबित है। जहां तक हो सकेगा हम आश्रितों के लिए करेंगे। फायर ब्रिगेड पर चर्चा करते हुए कहा कि यह अतिमहत्वपूर्ण सेवा है, लेकिन हालत काफी खराब है। सूबे में 121 फायर सब स्टेशन है, इनमें 53 ही नए भवन या अपने भवन में है। शेष किराये के मकान में है। शीघ्र ही सभी फायर स्टेशन का अपना भवन हो, इस पर काम किया जा रहा है। कहा कि जिन फायर सब स्टेशन के पास मकान नहीं है, वहां जवानों के रहने के लिए किराये पर भी मकान लिया जा रहा है। मौके पर एसपी अनिल कुमार, एसडीपीओ डॉ. कुमार वीर धीरेंद्र, होमगार्ड समादेष्टा संजय कुमार, जिला अग्निशमन पदाधिकारी शशिकांत शर्मा, डुमरा थानाध्यक्ष नवलेश कुमार आजाद, पुनौरा थानाध्यक्ष पंकज कुमार, अशोक कुमार, नरेश मेहता और अमृतांशु आदि मौजूद थे।

---------------------------------------------------

इनबॉक्स:::::

डीजी ने निरीक्षण के दौरान भवनों की मरम्मत का दिया आदेश

सीतामढ़ी : होमगार्ड डीजी आरके मिश्रा ने शनिवार को डुमरा स्थित होमगार्ड कार्यालय का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने समादेष्टा कार्यालय, लेखा, स्थापना कार्यालय, बैरक, मैगजीन रूम, रसोई घर और शौचालय का निरीक्षण किया। एसपी अनिल कुमार, एसडीपीओ डॉ. कुमार वीर धीरेंद्र व होमगार्ड समादेष्टा संजय कुमार के साथ निरीक्षण के क्रम में उन्होंने कार्यालय भवन की बाबत जानकारी ली। बताया गया कि होमगार्ड कार्यालय का अपना भवन नहीं है। इसे नजारत द्वारा उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने भवन के कई कमरों की मरम्मत, रसोई घर को अलग शिफ्ट करने और शौचालय को दुरुस्त करने का निर्देश दिया। इसके बाद उन्होंने समादेष्टा कार्यालय कक्ष में एसपी, एसडीपीओ और समादेष्टा के साथ बैठक की। वहीं जवानों की परेशानी सुनी। इस दौरान रीगा निवासी मृत होमगार्ड जवान राम लला प्रसाद के पुत्र राकेश कुमार को 30 अक्टूबर तक अनुकंपा पर नौकरी देने का निर्देश दिया। जबकि, समय पूर्व रिटायरमेंट देने की शिकायत करने पहुंचे जवान संख्या 14267, राम विनय राय के कागजात की जांच की। उसके दावे को सही करार देते हुए समादेष्टा को कार्रवाई का निर्देश दिया। सेवानिवृत्त जवानों की परेशानी सुनने के दौरान एक कर्मी द्वारा दस हजार रुपये बतौर रिश्वत मांगने की शिकायत करने पर भड़के डीजी ने तुरंत आरोपित कर्मी को बुलवा कर पूछताछ की। साथ ही उक्त कर्मी को आज ही सेवा से हटाने का निर्देश दिया। इसके पूर्व होमगार्ड कार्यालय परिसर में डीजी आरके मिश्रा को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप